अस्सी घाट पर शूटिंग के नाम पर भक्ति गानों पर हो रहा है अश्लील डांस - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 10 September 2020

अस्सी घाट पर शूटिंग के नाम पर भक्ति गानों पर हो रहा है अश्लील डांस

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

अस्सी घाट पर शूटिंग के नाम पर  भक्ति गानों पर हो रहा है अश्लील डांस 

जिला प्रशासन इस पर लगाये तत्काल रोक


वारााणसी, 10 सितम्बर। अस्सी घाट पर चल रहे फिल्म लव यू शंकर की शूटिंग के दौरान खुलेआम भक्ति के गानों पर अश्लील डांस को शूट किया जा रहा है। अभीनेता श्रेयस तलपड़े व अ•भीनेत्री तनीषा मुखर्जी अभीनीत फिल्म लव यू शंकर फिल्म के निर्माता तेजस देसाई है और इसका निर्देशन राजीव रूईया कर रहे है।  अस्सी घाट पर  फिल्म की शूटिँग के दौरान भक्ति गीत ओम जय जगदीश हरे  भजन को एडवांस मॉडल रूप में रेप की तर्ज पर शूट किया जा रहा था। जिसमें देवाताओं के लगे फोटो के आगे अर्धनग्न लड़के-लड़कियां डांस कर रहे थे।  काशी जहां भारतीय संस्कृति व सभयता सीखने के लिए लोग आते है। हजारो विदेशी पर्यटको काशी आकर भारतीय संस्कृति को आत्मसात करते है, उस असि घाट पर जहां गोस्वामी तुलसीदास ने रामचरित मानस की रचना कर मानव को जीवन जीने का मर्म सीखाया, उस असि घाट पर खुलेआम नग्नता परोसी जा रही है।  फिल्म के नाम पर अश्लीलता फैलायी जा रहीी है।  जागृति फाउण्डेशन के महाासचिव व सामाजिक कार्यकर्ता रामयश मिश्र ने कहा कि काशी नगरी जहां पर वेद, पुराण, उपनिषद सहित धर्म की शिक्षा दीक्षा दी जाती है उस नगरी में धार्मिक गानों पर अश्लीलता परोसना धािर्मक भावनओं के साथ खिलवाड़ करना है।  जिला प्रशासन से मांग की है कि वह इस फिल्म की श्ूाटिंग पर तत्काल रोक लगाये। उन्होंने कहा कि वह फिल्म के निर्माता निर्देशक पर मुकदमा दर्ज करायेंगे।
फिल्म की शूटिंग के लिए निर्माता निर्देशक परमिशन लिये हुए है, उसके बावजूद अगर वह धार्मिक भावनाओं को आहत कर रहे रहे है तो उसकी जांच करके कार्रवाई की जायेगी

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।