बनारस में तो हमें लोग मोमोज नही खिलाते- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 27 October 2020

बनारस में तो हमें लोग मोमोज नही खिलाते- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

कैलाश सिंह विकास वाराणसी


बनारस में तो हमें लोग मोमोज नही खिलाते- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी


 प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने ‘प्रधानमंत्री स्‍वनिधि योजना’ के उत्तर प्रदेश के लाभार्थियों के साथ-साथ वाराणसी के दुर्गा कुंड वेंडिंग जोन में मोमोज एवं काफी का ठेला लगाने वाले अरविंद मौर्या से वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया। इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ भी उपस्थित रहें।
          प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से वाराणसी के अरविंद मौर्या ने संवाद के दौरान बताया कि वे दुर्गाकुंड स्थित सीएमओ ऑफिस के पास वेंडिंग जोन में मोमोज व काफी का ठेला लगाते हैं। प्रधानमंत्री द्वारा स्वनिधि योजना का लाभ पाने के लिए अरविंद को कितना भागदौड़ करना पड़ा और किन-किन अधिकारियों के हाथ पैर पकड़ने पड़े की जानकारी पूछने पर अरविंद मौर्या ने प्रधानमंत्री को बताया कि उन्हें कहीं भी भागदौड़ नहीं करना पड़ा। डूडा एवं नगर निगम द्वारा सर्वे किया गया था और सर्वे के एक सप्ताह बाद यूनियन बैंक ऑफ इंडिया सोनारपुरा ब्रांच से जहां पर उनका पहले से खाता हैं से फोन आया कि आपका लोन आया है और नगर निगम से बना हुआ कार्ड आधार कार्ड लेकर से बैंक आने को कहा। इस पर उन्हें बहुत आश्चर्य हुआ और लगा कि कोई उन्हें बेवकूफ बना रहा।
        प्रधानमंत्री ने अरविंद से पूछा कि आप मोमोज कैसे बनाते हैं, इस पर अरविंद ने मोमोज बनाने की प्रक्रिया प्रधानमंत्री को बतायी। तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अरविंद को संबोधित करते हुए कहा कि हम बनारस आते हैं तो लोग हमें तो मोमोज नहीं खिलाते। इस पर अरविंद ने प्रधानमंत्री से वायदा किया कि इस बार उन्हें बनारस आने पर उन्हें मोमोज खिलाएंगे। इस पर प्रधानमंत्री ने चुटकी लेते हुए कहा कि उनके सिक्योरिटी के लोग उन्हें सब कुछ ऐसे ही नहीं खाने देते। जिस पर अरविंद ने प्रधानमंत्री से कहा कि वे रामायण सबरी की तरह उन्हें मोमोज अवश्य खिलाएंगे। कोरोना काल में व्यापार बाधित होने और उस से आने वाली परेशानी का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने अरविंद से पूछा कि कोरोना से बचने के लिए एवं लोगों को जागरूक करने के लिए वे क्या करते हैं और अपना धंधा कैसे चलाते हैं। अरविंद ने बताया कि उनकी दुकान पर मास्क लगाकर आने वालों को एक मोमोज फ्री देने की उनकी ग्राहकों से स्कीम है। इस पर प्रधानमंत्री ने उनका स्वागत करते हुए कोरोना से बचाव हेतु लोगों को जागरूक करने हेतु धन्यवाद के दिया। मोमोज की ऑनलाइन होम डिलीवरी के बाबत पूछे जाने पर अरविंद ने बताया कि पिंकी के माध्यम से वे ऑनलाइन डिलीवरी भी करते हैं। सरकार की अन्य योजनाओं का लाभ मिलने के बाबत प्रधानमंत्री द्वारा पूछे जाने पर अरविंद मौर्या ने बताया कि परिवार के स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए उन्हें 5 लाख रुपये का आयुष्मान कार्ड बना है, अंत्योदय कार्ड बना है जिसके द्वारा कोरोना कॉल में फ्री राशन मिला, श्रम योगी योजना में बीमा हुआ है, जिससे 60 वर्ष की आयु के पश्चात उन्हें 3000/- रुपये प्रति माह मिलेगा, इसके अलावा भी सरकार द्वारा बीमा कराया गया।
          प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मोमोज एवं काफी विक्रेता अरविंद मौर्या से वार्ता के दौरान कोरोना से पूरी सफलता के साथ जंग लड़ने के लिए बनारसवासियों को धन्यवाद एवं नमस्कार किया।
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने स्वनिधि योजना के लाभार्थियों से सीधे संवाद के दौरान अपने संबोधन में कहा कि उत्तर प्रदेश में स्वनिधि योजना में देश में प्रथम स्थान पर है। उत्तर प्रदेश में अर्थव्यवस्था में स्ट्रीट वेंडरों की बड़ी भूमिका है। इस योजना से लोगों की आवश्यकता पूरी हुई है। उत्तर प्रदेश में पलायन रोकने में रेहड़ी-पटरी वालों को दिए जा रहे स्वनिधि योजना के लोन की बड़ी भूमिका है। उत्तर प्रदेश ने स्वनिधि योजना में ऋण स्टांप ड्यूटी से मुक्त किया है। तत्परता से इस योजना का लाभ दिलाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनकी पूरी टीम को प्रधानमंत्री ने बधाई दी।
         स्वनिधि योजना में समय से क़िस्त की अदायगी पर 07 फीसदी ब्याज की छूट है तथा डिजिटल पेमेंट पर प्रति माह 100/- कैशबैक की सुविधा है। 01 जून, 2020 को स्वनिधि योजना लागू हुई और 2 जुलाई, 2020 को आवेदन आने लगे। तीव्र गति से योजना को लागू किया गया। ऐसी कल्पना नहीं थी। गरीब पटरी-रेहड़ी वालों के लिए आजादी के बाद से पहली बार ऐसी महत्वाकांक्षी योजना बनी है। देश आपकी श्रम का सम्मान कर रहा है। आत्मनिर्भर भारत में वेंडरों के योगदान को पहचान रहा है। योजना में कोई गारंटी नहीं, कोई प्रमाण पत्रों के झंझट नहीं, बैंकों में चक्कर नहीं लगाने, कोई दलाल नहीं। बल्कि बैंक खुद आपके पास जाकर लोन दे रही है। व्यक्ति स्वयं ऑनलाइन अपना आवेदन अपलोड कर सकता है। 
         प्रधानमंत्री ने कहा कि बनारस ने हमेशा दिशा दी है। वेंडर भी कोरोना कॉल में सोशल डिस्टेंसिंग, डिजिटल पेमेंट पर एक फ्री मोमोज का ऑफर एक बड़ा प्रेरणादाई है। यही देश की ताकत है, इन्हीं से देश आगे बढ़ता है। योजना से गरीबों के त्यौहार में रोशनी फैली है। आज का दिन आत्मनिर्भर भारत के लिए विशेष दिन है। उत्तर प्रदेश के लोग कैसे कठिन परिस्थितियों में मुकाबला करते हैं, यह साबित हुआ और आज का दिन इसका साक्षी है। कोरोना महामारी में लोग भारत पर आशंका जताते थे। भारत ने कैसे कम तकलीफ उठाते हुए इस वैश्विक महामारी से उबरने में काम किया। गरीब कल्याण योजना, बड़ा आर्थिक पैकेज, स्वनिधि योजना आदि से किसान, गरीब, श्रम को सम्मान दिया। हमारे देश का गरीब ईमानदारी व आत्म सम्मान से समझौता नहीं करता। स्वनिधि ने इस सच्चाई को साबित किया। वेंडर समय से किस-किस की अदायगी भी करने लगे हैं। वैश्विक आपदा से लड़ने जीतने में देश का सामान्य मानव आगे आया है। गरीबों के यहां भी गैस पर खाना बनाना, प्रधानमंत्री आवास बनना, सौभाग्य योजना में बिजली होना, आयुष्मान भारत में 5 लाख रुपये तक की चिकित्सा सुविधा होना, विभिन्न बीमा योजनाओं में अच्छादित होना आदि से गरीब का समग्र विकास देश का संकल्प है। रेहड़ी, पटरी, कृषि, किसान, एमएसएमई के कारोबारी आदि सभी के कारोबार को आगे बढ़ाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जाएगी। कोरोना तकलीफ में सबने सामना किया, बचाव का पालन किया इसके लिए प्रधानमंत्री ने धन्यवाद दिया और कहा कि देश जल्द ही कोरोना को पूरी तरह हराएगा। प्रधानमंत्री ने अभी त्यौहार पर 2 गज दूरी मास्क है जरूरी का संदेश देते हुए सभी को त्योहारों की शुभकामनाएं एवं बधाई दी।
         प्रधानमंत्री के संवाद से पूर्व लखनऊ से वर्चुअली जुड़े उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत, अभिनंदन व आभार व्यक्त करते हुए प्रदेश सरकार द्वारा कोविड काल में प्रधानमंत्री द्वारा घोषित विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं यथा- प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना, आत्मनिर्भर भारत के तहत एमएसएमई को ऋण व रोजगार सृजन, निर्माण श्रमिकों व गरीबों हेतु विशेष भरण-पोषण भत्ता, औद्योगिक गतिविधियों को गति प्रदान करने हेतु विभिन्न आर्थिक पैकेज, स्वनिधि योजना आदि प्रदेश सरकार द्वारा प्रभावी क्रियान्वयन से हुए कार्यों से प्रधानमंत्री को अवगत कराया।
          इस अवसर पर जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि विगत तीन-चार महीने से प्रधानमंत्री जी द्वारा कोरोना के संकट में रेहड़ी, ठेला, पटरी पर लगाने वाले छोटे-छोटे दुकानदारों को आत्मनिर्भर बनाए जाने के उद्देश्य से "पीएम स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि" की गई घोषणाओं के क्रियान्वयन की हकीकत को जानने के लिए उत्तर प्रदेश के जनपद आगरा, लखनऊ व वाराणसी के पीएम-स्वनिधि लाभार्थियों से संवाद कर इस पर चल रहे काम की हकीकत से वाकिफ हुआ गया। प्रधानमंत्री ने वेंडरों से संवाद करके यह जानने का भी प्रयास किया कि उन्हें योजना का लाभ देने में कोई परेशानी तो नहीं हुआ और आगे मिलने वाली स्कीमों की भी उन्हें जानकारी है कि नहीं। वेंडरों के जवाब से प्रधानमंत्री पूरी तरह संतुष्ट दिखे। जिलाधिकारी ने बताया कि जिले में हजारों वेंडरों को इससे लाभान्वित कराया गया है। यह केवल लोन ही नहीं हैं, बल्कि डिजिटल ट्रांजैक्शन करने पर कैशबैक की भी स्कीम है। इसके अलावा और आगे भविष्य में और कई लाभ भी वेंडरों को मिलना है। वाराणसी में लगभग 22 हजार वेंडरों को योजना के अंतर्गत ऋण प्रदान किया गया है। उन्होंने बताया कि जिन वेंडरों को स्वनिधि योजना के अंतर्गत ऋण स्वीकृत किया गया है, उन्हें मॉडल प्रमाण पत्र के रूप में आज पांच स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित कर उन्हें स्वीकृति पत्र वितरित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि 21000 वेंडरों के बैंक खातों में पहले ही ऋण की धनराशि उपलब्ध करा दी गई है। इधर एक-दो दिनों में जिन लोगों के आवेदन स्वीकृत किए गए आज ही उनके खातों में ऋण की धनराशि उपलब्ध करा दी जाएगी। बताया गया कि वाराणसी में 43000 ऑनलाइन आवेदन आया है 29000 स्वीकृत किए जा चुके हैं और अब तक 21700 लोगों के खातों में धनराशि भी उपलब्ध कराया जा चुका है।
           गौरतलब हैं कि प्रधानमंत्री स्‍ट्रीट वेंडर्स आत्‍मनिर्भर निधि (पीएम स्‍वनिधि) योजना की शुरुआतसड़कों और पटरियों पर सामान बेचने वाले उन गरीब लोगों के लिए 1 जून, 2020 को की गई थी जो कोविड-19 के चलते प्रभावित हुए थे। इन लोगों ने अपनी आजीविका पुन: शुरू कर दी है और अब तक इस योजना के अंतर्गत 24 लाख से अधिक आवेदन प्राप्‍त हुए हैं। इनमें से 12 लाख आवेदनों को मंजूरी दी जा चुकी है और लगभग 5.35 लाख के ऋण वितरित किये जा चुके हैं। उत्तर प्रदेश में 6 लाख से अधिक आवदेन प्राप्त हुए हैं जिनमें से 3.27 लाख को मंजूरी दी जा चुकी है और 1.87 लाख का ऋण वितरित किया जा चुका है।
       जिसका वाराणसी में विभिन्न स्थानों पर बड़े-बड़े एलईडी स्क्रीन लगाकर तथा सूचना विभाग द्वारा बड़े-बड़े एलईडी वैन के माध्यम से शहर के प्रमुख वेंडिंग जोन तक प्रसारण सुनिश्चित कराया गया। ताकि प्रधानमंत्री के संदेश को वेंडरों के साथ-साथ आम जनता भी सुन सके। वाराणसी में कमिश्नरी स्थित ऑडिटोरियम सभागार, बड़ा लालपुर स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय हस्तकला संकुल, पराड़कर भवन एवं दुर्गाकुंड के पास एलईडी स्क्रीन लगाकर के अलावा सूचना विभाग द्वारा म्यूजियम सारनाथ वेंडिंग जोन, जवाहर नगर नेहरु मार्केट वेंडिंग जोन, भारत सेवाश्रम वेंडिंग जोन तथा रविदास गेट से 30 मीटर आगे वेंडिंग जोन में एलईडी बैन लगा कर वेंडरों को प्रधानमंत्री की संदेश का लाइव प्रसारण सुनाया एवं दिखाया गया।


No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।