किसान विरोधी कृषि कानून के खिलाफ आज कांग्रेस ने किया प्रदेशव्यापी सरकार जगाओ कार्यक्रम - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 23 December 2020

किसान विरोधी कृषि कानून के खिलाफ आज कांग्रेस ने किया प्रदेशव्यापी सरकार जगाओ कार्यक्रम

लखनऊ ब्यूरो

किसान विरोधी कृषि कानून के खिलाफ आज कांग्रेस ने किया प्रदेशव्यापी सरकार जगाओ कार्यक्रम

तानाशाही सरकार ने दर्जनों जिलाध्यक्षों और वरिष्ठ नेताओं को सुबह ही किया हाउस अरेस्ट


लखनऊ । देश के अन्नदाता किसानों द्वारा 28 दिनों से लगातार राजधानी दिल्ली के बार्डर पर भीषण ठण्ड में अपनी मांगों को लेकर किये जाने रहे आन्दोलन के समर्थन में सो रही भाजपा की केन्द्र और राज्य सरकारों एवं उसके जनप्रतिनिधियों(सांसदों, विधायकों) को जगाने के लिए उ0प्र0 कांग्रेस कमेटी ने आज किसान दिवस(पूर्व प्रधानमंत्री चै0 चरण सिंह की जयन्ती) पर प्रदेशव्यापी ताली-थाली बजाओ और सरकार जगाओ, कार्यक्रम आयोजित किया। प्रदेश की राजधानी की लखनऊ में खुद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष  अजय कुमार लल्लू ने अपने आवास बहुखण्डी-विधायक निवास, डालीबाग पर ताली-थाली बजाकर भारतीय जनता पार्टी के जनप्रतिनिधियों को गहरी निद्रा से जगाने का प्रयास किया। पूरे प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के नेताओं, पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं(जिन्हें योगी सरकार द्वारा तानाशाहीपूर्वक गिरफ्तार/हाउस अरेस्ट नहीं किया गया) ने अपने-अपने क्षेत्रों में स्थानीय भाजपा के जनप्रतिनिधियों-सांसदों, विधायकों के आवासों/कार्यालयों पर ताली-थाली बजाकर आन्दोलन किया।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष  अजय कुमार लल्लू ने ताली-थाली बजाकर विधायक निवास, डालीबाग में कहा कि जिस प्रकार पिछले 28 दिनों से हमारे देश का अन्नदाता किसान भीषण ठण्ड में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के बार्डर की सड़कों पर अपनी मांगों को लेकर आन्दोलनरत है। वहीं सरकार को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ रहा है कि आन्दोलनरत किसान कितनी मुसीबत में अपनों को खोते जा रहे हैं अब तक 28 किसानों की दुखद मौतें हो चुकी हैं तथा आज से देश का पेट भरने वाला अन्नदाता किसान 18 घण्टे भोजन न करने (उपवास ) पर है और भाजपा की सरकार और उनके प्रतिनिधि(सांसद-विधायक) अहंकार में कुम्भकर्णी नींद सो रहे हैं। उन्होने कहा कि भाजपा खुद तो अपनी रैली कर रही है और प्रदेश में अघोषित आपातकाल लगा रखा है। किसानों के समर्थन में कांग्रेस के कार्यकर्ता जब सांकेतिक रूप से कोई समर्थन व्यक्त करना चाहते हैं तो या तो उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाता है या उन्हें हाउस अरेस्ट कर लिया जाता है। इस तानाशाही से केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकार हमारे अन्नदाता किसानों की आवाज को दबा नहीं सकती। हम कांगे्रसी किसानों की मांगें पूरी होने तक सड़क से सदन तक अपना संघर्ष जारी रखेंगे।

इसी क्रम में आज पूरे प्रदेश में के हर जनपद में गिरफ्तारी एवं हाउस अरेस्ट से बचे हेतु पार्टी के जिलाध्यक्षों, शहर अध्यक्षों, पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने व्यापक रूप से भाजपा के सांसदों और विधायकों के आवास एवं कार्यालयों का घेराव किया और ताली-थाली बजाकर उन्हें सचेत किया कि वह अहंकारी रवैया त्यागकर हमारे अन्नदाता किसानों के समर्थन में उनकी मांगों को पूरा करने के लिए आगे आयें और जिन किसानों के बल पर आज वह सत्ता में बैठे हैं उनका मुसीबत के समय साथ दें।

आज के इस आन्दोलन में जहां राजधानी लखनऊ में स्वयं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष  अजय कुमार लल्लू  के नेतृत्व में  दिनेश सिंह,  मनोज यादव,  दिलप्रीत सिंह,  मेराज वली खां, सलोनी केसरवानी, हाशिम अली आदि सैंकड़ों की संख्या में कांग्रेसजनों ने ताली-थाली बजाकर आन्दोलन में भाग लिया वहीं प्रदेश के अन्य जनपदों वाराणसी में प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री  विश्वविजय सिंह के नेतृत्व में कार्यक्रम का आयोजन किया गया और गाजियाबाद में भाजपा विधायक के आवास का घेराव कर ताली-थाली बजाकर आन्दोलन किया गया। प्रतापगढ़ में जिलाध्यक्ष बृजेन्द्र मिश्र को पुलिस ने गिरफ्तार किया। लखनऊ में जिलाध्यक्ष  वेद प्रकाश त्रिपाठी, शहर अध्यक्ष  मुकेश सिंह चैहान केा हाउस अरेस्ट किया गया। मिर्जापुर के जिलाध्यक्ष  शिव कुमार सिंह पटेल को नजरबंद किया गया। इसी प्रकार लखीमपुर में जिलाध्यक्ष  प्रहलाद पटेल के नेतृत्व में पलिया के विधायक आवास का घेराव किया गया। गोण्डा, फर्रूखाबाद, बुलन्दशहर, फिरोजाबाद में जिलाध्यक्ष एवं कांग्रेसजनों को पुलिस ने गिरफ्तार कर रोका। झांसी, जालौन, अमरोहा, बांदा, और इटावा में कांग्रेसजनों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। इसी क्रम में बाराबंकी, फैजाबाद, बलरामपुर, श्रावस्ती, बस्ती, बहराइच, आगरा, हाथरस, कानपुर, उरई, बलिया, गाजीपुर, अम्बेडकरनगर, कुशीनगर, गोरखपुर, बरेली, शाहजहांपुर सहित प्रदेश के सभी जनपदों में कंाग्रेसजनों द्वारा कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।