वाराणसी: पुष्कर तालाब की बटुकों ने की सफाई - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 27 December 2020

वाराणसी: पुष्कर तालाब की बटुकों ने की सफाई

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

पुष्कर तालाब की बटुकों ने की सफाई

वाराणसी,26 दिसम्बर।  ब्रम्हा वेद विद्यालय में पढ़ने वाले वेदपाठी बटुको व जागृति फाउण्डेशन के सदस्यों ने शनिवार को अस्सी स्थित पुष्कर तालाब की सफाई की।  प्रात:काल 8.30 बजे वेदपाठी वटुकों ने तालाब के किनारे खाली पड़े •ाीटा जिस पर खर पतवार उग आया है कि सफाई की।  घंटों की मेहनत के बाद भीटा को पूरी तरह से बटुकों ने साफ कर दिया।  सफाई अभीयान में बटुकों का साथ दे रहे नगर के कुंडो तालाबों के बचाने के अभीयान में पिछले दो दशक से लगे जागृति फाउण्डेशन के महासचिव रामयश मिश्र ने कहा कि पिछले 20 वर्षो से पुष्कर तालाब के सुन्दरीकरण के लिए संघर्ष कर रहे है। तालाब का सुन्दरीकरण तो हो गया लेकिन तालाब की ड्रेजिंग नहीं हुयी जिसके कारण से तालाब से जलकुंभी पूरी तरह से निकल नहीं पा  रहा है।  तालाब का सुन्दरीकरण का कार्य कर रही संस्था सीएनडीएस को तालाब की ड्रेजिंग करने के साथ ही तालाब के अन्दर फाउण्टेन भी बनाना था लेकिन यह कार्य नहीं किया गया।  रामयश मिश्र ने कहा कि सृजन संस्था के सहयोग से सीआरपीएफ, एनडीआरएफ व नगर निगम का भारपूर सहयोग तालाब की सफाई में मिल रहा है।  हमलोग भी उनके कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे है आशा है कि जो बीस साल पहले सपना तालाब के सुन्दरीकरण के देखे तो वह अब पूरा हो जायेगा।  इस अवसर पर ब्रम्हा वेद विद्यालय के प्रबंधक राम शरण दास महाराज ने कहा कि पुष्कर तालाब नहीं यह पुष्कर तीर्थ है इसका नाम नगर निगम द्वारा बोर्ड पर पुष्कर कुण्ड लिख दिया गया है जो गलत है और इसको सुधारने के लिए हम नगर निगम को पत्र लिखेंगे।  श्रमदान में अमित कुमार पाण्डेय, रिकेन्द्र पाण्डेय, आशीष मिश्र सहित अनेक बटुक लगे हुए थे।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।