GORAKHPUR गरीबों के लिए घुने एवं मिट्टी भरें गेहूं की सप्लाई, सिस्टम सवालों के कटघरे में - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

Tahkikat News App

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 13 January 2021

GORAKHPUR गरीबों के लिए घुने एवं मिट्टी भरें गेहूं की सप्लाई, सिस्टम सवालों के कटघरे में

कृपा शंंकर चौधरी ब्यूरो गोरखपुर

गरीबों के लिए घुने एवं मिट्टी भरें गेहूं की सप्लाई, सिस्टम सवालों के कटघरे में

गोरखपुर । सरकार एक तरफ गरीबों के हित में काम करना कहती हैं तो दूसरी ओर उसी के नाक के नीचे गरीबों को मिलने वाले निवाले में मिलावट का खेल जारी है।
मामला गोरखपुर चौरीचौरा तहसील के ब्रम्हपुर विकास खण्ड के विपणन केंद्र का है। दरअसल बुधवार को विपणन निरीक्षक ब्रह्मपुर के गोदाम पर सुबह दस बजे के लगभग सरकारी गेहूं उतर रहा था। गेहूं की स्थिति यह थी कि उसमें भारी मात्रा में मिट्टी व घुना हुआ था धीरे धीरे इसकी चर्चा होना शुरू हुआ और इसकी सूचना पाकर कुछ कोटेदार व ग्रामीण मौके पर पंहुच गये। वहां की स्थिति देख दंग रह गए वहां विपणन अधिकारी भारत खराब गेहूं को अलग रखवा रहे थे उनका कहना था कि चार ट्रक गेहूं आज  आया है मैं वरिष्ठ अधिकारी को सूचना दे दिया हूं खराब गेहूं किसी भी कीमत पर नहीं उतरेगा खराब गेहूं वापस जायेगा।मै डेढ़ ट्रक गेहूं उतरवा लिया है और ढाई ट्रक गेहूं वापस भेज रहा हूं। इस सम्बन्ध में जिला खाद्य विपणन अधिकारी राकेश मोहन पान्डेय से बात की गई तो उन्होंने कहा कि यह मामला एफ सी आई का है खराब गेहूं वापस जायेगा तथा कार्यवाही के लिए पत्र लिखा जायेगा वैसे यह गेहूं अपने यहां का नहीं है बाहर से रैक आया है। 
दूसरी तरफ विभागीय सूत्रों की मानें तो बाहर से आया रैक का गेहूं इस समय नकहां व गीडा के गोदामों में उतर रहा है तथा स्थानीय खरीद का गेहूं कुड़ाघाट के गोदाम में रखा गया है और यह गेहूं कुड़ाघाट गोदाम से आया है। गेहूं की स्थिति देखकर लोगों द्वारा तरह तरह के सवाल खड़ा किया जा रहा है। सबसे बड़ा सवाल यह है कि जब भी सरकारी खरीद का गेहूं व चावल गोदाम में जाता है वहां जांच के लिए तकनीकी सहायक बैठे रहते हैं और उनके जांच में ठीक पाये जाने पर ही गोदाम में उतरता है तब यह गेहूं गोदाम में कैसे आया और किस किस सेन्टर से आया यह जांच के बाद ही पता चल पायेगा वैसे इस मामले में धांधली की भयंकर बू आ रही है।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।