VARANASI भगवान ब्रह्मा, विष्णु एवं शिव निरंतर वेदमाता गायत्री की आराधना में निमग्न रहते हैं- पं. मुरलीधर शास्त्री - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

Tahkikat News App

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 11 January 2021

VARANASI भगवान ब्रह्मा, विष्णु एवं शिव निरंतर वेदमाता गायत्री की आराधना में निमग्न रहते हैं- पं. मुरलीधर शास्त्री

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

भगवान ब्रह्मा, विष्णु एवं शिव निरंतर वेदमाता गायत्री की आराधना में निमग्न रहते हैं-  पं. मुरलीधर शास्त्री

 वाराणसी 10 जनवरी। वैदिक एजुकेशनल रिसर्च सोसाइटी द्वारा राष्ट्रकल्याण एवम विश्वशांति हेतु वेदमाता मंदिर छित्तूपुर, लंका में आयोजित गायत्री पुरश्चरण महायज्ञ में जारी विद्वत् चर्चा एवम विद्वान सम्मान कार्यक्रम के 27 वें दिन रविवार को प्रसिद्ध प्रवचनकर्ता एवं कथावाचक मानस मृदुल पं. मुरलीधर शास्त्री ने कहा कि भगवान ब्रह्मा, विष्णु एवं शिव निरंतर वेदमाता गायत्री की आराधना में निमग्न रहते हैं। उनकी कृपा से हीं ब्रह्मा सृजन करते हैं, विष्णु सृष्टि का पालन पोषण एवं महादेव शिव संहार करते हैं। इसीलिए गायत्री को देव माता भी कहा जाता है। उन्होंने कहा कि गायत्री हमारे प्राणों की रक्षिका देवी है उनके मंत्र गान से हमारे प्राणों का त्राण होता है। सोसायटी अध्यक्ष एवं कार्यक्रम के संयोजक पंडित शिवपूजन चतुर्वेदी ने शास्त्री जी की अभ्यर्थना की। पं. चतुर्वेदी ने महामना पंडित मदनमोहन मालवीय के धर्मोपदेश में वर्णित आख्यान की व्याख्या करते हुए कहा कि गायत्री मंत्र उस परमब्रह्म परमात्मा की आराधना है जो अखिल ब्रह्मांड के नियंता हैं। उन्होंने कहा कि भगवान के अवतार राम, कृष्ण, परशुराम, वामन सभी ने गायत्री से त्रिकाल संध्या की और मानव को सात्विक तथा परोपकारी जीवन के लिए प्रेरित करते हुए धर्मराज्य की स्थापना की। पं. चतुर्वेदी के नेतृत्व में वैदिक वटुकों ने मानस मृदुल, इंजीनियर अरुण पाण्डेय एवं आमंत्रित अतिथियों का सुमधुर सामगान से स्वागत किया एवं उन्हें अंगवस्त्र, पुष्पमाला से सम्मानित किया। इस अवसर पर वेदज्ञ पंडित जयप्रकाश चतुर्वेदी, पं. ओमप्रकाश चतुर्वेदी, पं. सुनील चौबे, पं. रमाशंकर तिवारी, पं. अमूल्य उपाध्याय, डा. राजीव रंजन तिवारी, पं. सुनील पाठक, पं. वाचस्पति पांडेय, पं. संजय जी सहित वैदिक विद्वान एवं श्रद्धालुगण उपस्थित थे। 

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।