लक्षण विहीन अथवा कम लक्षण वाले रोगियों हेतु उपचार - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 19 April 2021

लक्षण विहीन अथवा कम लक्षण वाले रोगियों हेतु उपचार

कैलाश सिंह विकास वाराणसी



लक्षण विहीन अथवा कम लक्षण वाले रोगियों हेतु उपचार

        वाराणसी। कार्यालय महानिदेशक, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं, उत्तर प्रदेश के राज्य सर्विलांस इकाई द्वारा कोविड-2019 के वर्तमान दौर में लक्षण विहीन अथवा कम लक्षण वाले रोगियों हेतु निम्नवत उपचार बताये व सलाह दिये गये हैं।

1. टेबलेट पेरासिटामोल 15 मिलीग्राम/किलोग्राम शारीरिक वजन - 500 मिलीग्राम की एक टेबलेट
X दिन में तीन बार (मरीज का वजन 50 किलोग्राम से अधिक होने पर अगर बुखार 100 डिग्री
फारेनहाइट से कम है, बुखार न होने की स्थिति में नहीं दिया जाना है)
अथवा
1. टेबलेट पेरासिटामोल 650 मिलीग्राम की एक टेबलेट दिन में तीन बार (मरीज के वजन 50 किलोग्राम से अधिक होने पर अगर बुखार 100 डिग्री फारेनहाइट से अधिक है, बुखार ना होने की स्थिति में नहीं दिया जाना है)

2. टेबलेट आईवरमेक्टिन 200 माइक्रोग्राम/किलोग्राम शारीरिक वजन - 12 मिलीग्राम की एक गोली वयस्क व्यक्तियों हेतु दिन में 1 बार रात्रि के भोजन के उपरांत x 5 दिन के लिए (गर्भवती
महिलाओं, धात्री महिलाओं तथा 12 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए नहीं दिया जाना है)

3. कैप्सूल डोक्सीसाईक्लिन 200 मिलीग्राम दिन में दो बार (गर्भवती महिलाओं, धात्री महिलाओं तथा 12 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए नहीं दिया जाना है)
अथवा
टेबलेट एजिथ्रोमायिसिन 10 मिलीग्राम प्रति किलोग्राम/किलोग्राम शारीरिक वजन - व्यस्क व्यक्तियों हेतु अधिकतम 500 मिलीग्राम दिन में 1 बार x 5 दिन के लिए (गर्भवती महिलाओं, धात्री
महिलाओं तथा 12 साल से कम उम के बच्चों में दिया जाना है)

4. टेबलेट एजिथ्रोमायिसिन 10 मिलीग्राम प्रति किलोग्राम/किलोग्राम शारीरिक वजन -500 मिलीग्राम व्यस्क व्यक्ति हेतु दिन में 1 बार x 5 दिन के लिए - (कोविड धनात्मक आने के पांचवें दिन के
उपरान्त डॉक्सीसाइक्लिन 5 दिन देने के उपरांत भी बुखार जारी रहता है तो दिया जाना है, ऐसी
स्थिति में में चिकित्सक से परामर्श अनिवार्य है)

5. टेबलेट विटामिन-सी 500 मिलीग्राम एक गोली दिन में तीन बार x 10 दिन के लिए

6. टेबलेट जिंक 50 मिलीग्राम एक गोली दिन में दो बार x 10 दिन के लिए

7.टेबलेट/कैप्सूल विटामिन बी काम्प्लेक्स 1 टेबलेट/कैप्सूल दिन में एक बार x 10 दिन के लिए

8. विटामिन D3 - 60,000 यूनिट हर सप्ताह में एक बार दूध अथवा पानी के साथ

9. दिन में तीन से चार बार भाप लें

10. सांस संबंधी व्यायाम/योग/प्राणायाम दिन में 40 से 50 मिनट तक करें (यदि आप सहज महसूस
कर रहे हो तभी करें)

11. दिन में तीन से चार बार श्वसन दर (रेस्पिरेटरी रेट) तथा ऑक्सीजन सैचुरेशन (पल्स ओक्सिमीटर से) अवश्य नापे, ऑक्सीजन सैचुरेशन 94 % से अधिक होना चाहिए।

12. पर्याप्त मात्रा में हल्का गर्म/गुनगुना पानी लें, व्यस्त व्यक्ति - 3 से 4 लीटर प्रतिदिन |

13. यदि आप पूर्व में डायबिटीज, उच्च रक्तचाप अथवा अन्य किसी अन्य क्रॉनिक (दीर्घावधि) बीमारी के लिए उपचार ले रहे थे, तो उसे अपने चिकित्सक के परामर्श के साथ जारी रखें।

नोट: टेबलेट आईवरमेक्टिन तथा डोक्सीसाइक्लिन का प्रयोग गर्भवती महिलाओं, धात्री महिलाओं तथा 12 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए नहीं किया जाना है। इन सभी में टेबलेट एज़ियोमायिसिन का
प्रयोग किया जाए।
DISCLAIMER : वर्तमान में विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर अनेक प्रकार के नॉन स्टैण्डर्ड
ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल प्रसारित हो रहे हैं, इस स्लाइड का उद्देश्य चिकित्सकों को प्रदेश में लक्षण विहीन
अथवा कम लक्षण वाले रोगियों हेतु जारी स्टैण्डर्ड ट्रीटमेंट गाइडलाइन से अवगत कराना है।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।