कोरोना से मृत शिक्षकों को लेकर प्राथमिक शिक्षक संघ ने की बैठक - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 17 May 2021

कोरोना से मृत शिक्षकों को लेकर प्राथमिक शिक्षक संघ ने की बैठक

मयंक पाण्डेय अमेठी

कोरोना से मृत शिक्षकों को लेकर प्राथमिक शिक्षक संघ ने  की बैठक

प्राथमिक शिक्षक संघ की कार्यकारिणी का शीघ्र होगा विस्तार

० शिक्षकों ने रखा मौन व्रत

० 20 शिक्षकों ने ली प्राथमिक शिक्षक संघ की सदस्यता


अमेठी। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दौरान मृतक शिक्षकों की समस्याओं को लेकर उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ अमेठी की बैठक मनीषी महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय  गौरीगंज के सभागार में आयोजित की गई। जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए शिक्षकों की समस्याओं पर चर्चा की गई तथा उनको शासन से अवगत कराने के लिए प्रतिबद्धता जताई ।
उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ अमेठी की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष अशोक कुमार मिश्रा के नेतृत्व में संपन्न हुई।इस बैठक में गौरीगंज के 20अध्यापकों ने  राजेश गुप्ता प्रधानाध्यापक के नेतृत्व में प्राथमिक शिक्षक संघ की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण की।इसके अलावा पारस्परिक और अंतर्जनपदीय स्थानांतरण के शिक्षकों के वेतन भुगतान के लिए एलपीसी और सर्विस बुक समस्या को सुलझाने के लिए प्रयासरत है तथा उन्हें समय से वेतन दिलाने के लिए भी संघ ने प्रतिबद्धता जताई। शिक्षकों की समस्याओं को लेकर विभिन्न मुद्दे पर संघ ने आश्वासन दिया कि हम शिक्षक समस्याओं को लेकर गंभीर हैं और उनके निस्तारण के लिए हर संभव कोशिश करेंगे ।अंत में उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ के सदस्यों ने कोरोना में मृत शिक्षकों की सहानुभूति के लिए 2 मिनट का मौन व्रत रखा। इस बैठक में अशोक कुमार मिश्रा ( जिला अध्यक्ष) अरुण कुमार सिंह , वीरेंद्र कुमार यादव ,शशांक शुक्ला, राजेश तिवारी, राजकुमार ,अखिलेश प्रताप सिंह ,गिरीश चंद्र शुक्ला, नन्हे कुमार व गंगाधर शुक्ला सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।