जीविका बिना जीवन मुश्किल,सर्राफा व्यापार को भी मिले छूट - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 25 May 2021

जीविका बिना जीवन मुश्किल,सर्राफा व्यापार को भी मिले छूट

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

 
जीविका बिना जीवन मुश्किल,सर्राफा व्यापार को भी मिले छूट 

वाराणसी 24 मई। वाराणसी सर्राफा एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने आज सोमवार को टेलीफोनिक वार्ता की और वार्तालाप में कहा कि सर्राफा व्यवसाय की दुकानों को खोलने की व्यापारी शासन-प्रशासन से लगातार गुहार लगा रहा है, लेकिन प्रशासन अनदेखी कर रहा है। आज कारोबार ठप होने से छोटे व्यापारी तथा कारीगर बंधुओं के सामने स्वयं  का जीवन बचाने का संकट होता जा रहा है। जिविका बिना परिवार चलाना मुश्किल हो गया है। प्रदेश सरकार ने 31 मई तक तालाबंदी बढ़ा दी है। लेकिन जिस प्रकार प्रशासन ने आवश्यक वस्तुओं के साथ इलेक्ट्रॉनिक्स, इलेक्ट्रिक व बिल्डिंग मैटेरियल्स आदि की दुकानों को खोलने की छूट दी है, उसी प्रकार सर्राफा की दुकानों को दोपहर 1 बजे से शाम 6 बजे तक  खोलने में आखिर क्या हर्ज है। सभी व्यापारी कोविड गाइड-लाइन का पालन करते हुए प्रतिष्ठान खोलने को भी तैयार हैं। अब कोरोना का ग्रॉफ भी काफी नीचे आ गया है और इस समय शादी-ब्याह  का सीजन भी है। वैसे भी सर्राफा व्यवसायियों के प्रतिष्ठान पर बहुत अधिक भीड़ भाड़ नहीं होती है
व्यापारियों ने वार्तालाप में कहा कि कारोबार ठप होने से व्यापारियों की स्थिति दिनों-दिन दयनीय होती जा रही है। जबकि कर्मचरियों का वेतन, बिजली बिल, किराया, बैंक ब्याज, ईएमआई, जीएसटी आदि चालू है।  सरकार किसी भी मोर्चे पर व्यापारियों को राहत देने को तैयार नहीं है। गत वर्ष लॉकडाउन के कारण  सर्राफा व्यवसायियों को भारी नुकसान हुआ था, कुछ व्यापारी मुश्किल दौर से अभी भी उबर नहीं पाए हैं, कोरोना की दूसरी लहर से उन पर दोहरी मार पड़ी है। ऐसे में सरकार को मुश्क़िल हालात सुधारने के लिए छोटे और मझोले व्यापारियों तथा कारीगर बंधुओ को राहत पैकेज देना चाहिए। जबकि आपदा में सर्राफा व्यापारी हमेशा शासन-प्रशासन के साथ जनहित में मदद व सहयोग के लिए आगे रहता है।


No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।