गंगा, पर्यावरण और संस्कृति का संरक्षण और संर्वधन हमारे देश के विकास का मार्ग है - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 9 June 2021

गंगा, पर्यावरण और संस्कृति का संरक्षण और संर्वधन हमारे देश के विकास का मार्ग है

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

गंगा, पर्यावरण और संस्कृति का संरक्षण और संर्वधन हमारे देश के विकास का मार्ग है 

वाराणसी। दशाश्वमेध घाट पर गंगा तलहटी की सफाई कर गंगा सेवक राजेश शुक्ला ने कहा कि गंगा की पवित्रता, निर्मलता और अविरलता सदैव जीवन में मार्गदर्शन और प्रेरणा के स्रोत रहे हैं । मां गंगा का देश के सामाजिक सद्भाव में भी महत्वपूर्ण स्थान है । गंगा से कोई एक समुदाय या संप्रदाय विशेष का जुड़ाव नहीं है, बल्कि समाज के सभी वर्ग के लोग किसी न किसी रूप में गंगा से अपना जुड़ाव देखते हैं । गंगा भारतीय संस्कृति की संवाहिका है। गंगा के प्रति अनुराग देश में ही नहीं विदेश में भी दिखता है । इसलिए गंगा की स्वच्छता जरूरी है । इसी में पर्यावरण संरक्षण का लक्ष्य भी जुड़ा है । घाटों की सफाई से न सिर्फ गंगा स्वच्छता और पर्यावरण संरक्षण को बल मिला है बल्कि स्वच्छ और सुंदर घाट पर्यटकों को भी लुभाते हैं। गंगा को निर्मल, स्वच्छ और अविरल बनाना केवल सरकारों का दायित्व नहीं, बल्कि सभी देशवासियों का है ।  भारत के प्रत्येक नागरिक को स्वच्छ और निर्मल गंगा तथा पर्यावरण संरक्षण में अहम योगदान देना होगा । 


No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।