साइबर क्राइम को रोकने वाले एडीजी की फेसबुक आईडी हुई हैक - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 18 June 2021

साइबर क्राइम को रोकने वाले एडीजी की फेसबुक आईडी हुई हैक

मयंक पाण्डेय अमेठी

साइबर क्राइम को रोकने वाले एडीजी की फेसबुक आईडी हुई हैक

लखनऊ।साइबर क्राइम के चुंगल से लगभग अब बचना नामुमकिन सा नजर आने लगा है।हाल ही में एडीजी आगरा जोन की ऑफिसियल आईडी खुद ही हैक हो गयी।एडीजी जोन आगरा के नाम से बनी ऑफिसियल फेसबुक आईडी साइबर क्राइम के चुंगल में फस गयी और पैसे मांगने की पुरानी रस्मे अदा की जाने लगी।
आपको बताते चले एडीजी जोन आगरा राजीव कृष्णा अपने जोन के जिले के पुलिस बल को साइबर क्राइम से कैसे लड़ना है,इसके लिए प्रशिक्षण अभियान चला रहे है।जब खुद एडीजी की आईडी हैक हो गयी तो इस अभियान पर सवालिया निशान खड़े होंना मामूली बात नजर आती है।

आईडी को हैक करके अपराधी ने मांगे पैसे

एक फेसबुक यूजर ने आईडी को हैक करने के बाद में फेसबुक मैसेंजर के द्वारा पैसे मांगता हुआ नजर आया है।अपराधी फ़ोन पे और गूगल पे आपसे जानकारी मांगते है और उसके बाद में पैसे ट्रांसफर करने के लिए बोलते है।

सोशल मीडिया सेल पर उठे सवाल

सूत्रों की माने तो एडीजी जोन के सोशल मीडिया सेल में तैनात कुछ पुलिसकर्मी ट्विटर पर भी फर्जी नाम से ट्वीटर एकाउंट बना कर चलाते है और ट्विटर उपभोक्ताओं पर अनर्गल टिप्पड़ी करते रहते है।सूत्रों की माने तो ललित और सुंदर नाम के अलावा लगभग दो लोग और ट्विटर पर भ्रामक नाम से आईडी बना कर चलाते है।इससे ये सवाल लाजमी हो उठ जाता है कि सोशल मीडिया सेल में तैनात ये पुलिसकर्मी खुद में अपराध की श्रेणी में आ जाते है तो इन साइबर क्राइम पर लगाम लगाना भी बड़ी बात साबित हो जाती है।

कई आईपीएस आ चुके है साइबर क्राइम की गिरफ्त में

पिछले दिनों की बात करे तो उत्तर प्रदेश में कई साइबर अपराधियों ने आईपीएस अफसरों के नाम से ठगी करने की भरपूर प्रयास कर चुके है। गाजियाबाद एसएसपी आईपीएस बबलू कुमार व इस समय फिरोजाबाद में तैनाती पाये हुए आईपीएस अशोक शुक्ला भी इन साइबर अपराधियों की चंगुल में आने से नही बच पाये। वही हाल ही में कासगंज में तैनात एएसपी आईपीएस आदित्य प्रकाश वर्मा को भी हनी ट्रैप के चुंगल में फंसाने का भरपूर प्रयास साइबर अपराधियों के द्वारा किया गया था।इस तरीके की घटनाओं के बढ़ोत्तरी होने के बाद में अब लगने लगा है कि सोशल मीडिया का प्लेटफार्म बहुत ही सोच समझ कर प्रयोग करना चाहिए।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।