देशभर के शिवमंदिरों में श्रद्धालुओं का तांता /सावन के पहले सोमवार को लेकर क्या मान्यता है? - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 30 July 2018

देशभर के शिवमंदिरों में श्रद्धालुओं का तांता /सावन के पहले सोमवार को लेकर क्या मान्यता है?


Edited by- Dhram Prakash
सावन का पवित्र महीना 28 जुलाई से शुरू हो चुका है और आज सावन का पहला सोमवार है. वैसे तो पूरा सावन महीना ही काफी पवित्र माना जाता है लेकिन सावन के सोमवार का विशेष महत्व है. पवित्र दिन पर भगवान शिव के दर्शन के लिए देशभर के मंदिरों में शिवभक्तों का तांता लगना शुरू हो गया है. पूरे उत्साह के साथ भोले के भक्त मंदिरों में पूजा करने पहुंच रहे हैं.


सावन के पहले सोमवार को लेकर क्या मान्यता है?
कहा जाता है कि पार्वती ने शिव को पति के रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की थी. मां पार्वती ने भगवान शिव के लिए तपस्या सावन के पवित्र महीने में ही की थी. तपस्या से ख़ुश होकर भगवान शिव ने  पार्वती मां की मनोकामना पूरी कर दी. माता सती को पार्वती के रूप में पुनः पाकर भगवान शिव बहुत प्रसन्न हुए. तभी से माना जाता है कि भगवान शिव को सावन का महीना बड़ा प्रिय है.

महाकाल मंदिर में भस्म आरती
मध्यप्रदेश के उज्जैन में महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में महाकाल की विशेष भस्म आरती की गई है. भस्म आरती के बाद श्रृंगार कर महाकाल को सुंदर तरीके से सजाया गया. दिल्ली के गौरीशंकर मंदिर में सुबह से ही शिवबक्तों का तांता लग गया. यहां विशेष आतरी और पूजा की गई. बता दें कि सावन का दूसरा सोमवार 6 अगस्त, तीसरा सोमवार 13 अगस्त व चौथा सोमवार 20 अगस्त को होगा. सावन का महीना 26 अगस्त को खत्म होगा.


ज्योतिर्लिंगों को लेकर क्या मान्यता?
भगवान शिव जहां-जहां प्रगट हुए उन 12 जगहों पर शिवलिंग को ज्योतिर्लिंग के तौर पर पूजते हैं. मान्यता है कि जो भी ज्योतिर्लिंग के दर्शन करता है उसे विशेष फल प्राप्त होता है. ऐसा माना जाता है, कि ज्‍योतिर्लिंग में शिव का वास होता है.

1- सोमनाथ ज्योतिर्लिंग (गुजरात)
2- मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग (आंध्र प्रदेश)
3- महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग (मध्य प्रदेश)
4 - ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग (मध्य प्रदेश)
5 - केदारनाथ ज्योतिर्लिंग (उत्तराखंड)
6 - भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग (महाराष्ट्र)
7 - काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग (यूपी)
8 - त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग (महाराष्ट्र)
9 - वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग (झारखंड)
10 - नागेश्वर ज्योतिर्लिंग (गुजरात)
11- रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग (तमिलनाडु)
12 - घृष्णेश्वर मन्दिर ज्योतिर्लिंग (महाराष्ट्र)


No comments:

Post a Comment