बस्ती-कलेक्टर साहब...... कभी यंहा भी आया करो - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 25 September 2018

बस्ती-कलेक्टर साहब...... कभी यंहा भी आया करो

ग्राउंड रिपोर्ट-विश्वपति वर्मा

देश भर में छाए बड़े मुद्दे राफेल और बढ़ती पेट्रोल के कीमतों पर आपकी भी नजर गड़ी हुई है तो मैने सोचा कि आपको भारत के गांवों में लेकर चलूं जंहा पर यह देखा जाए कि किस तरहं से जनता के लिए लाई गई योजनाओं में बंदरबांट हुआ है और किसी का भी ध्यान इस पर नही पंहुच रहा है ।

यह सोचते हुए कि हो सकता है कलेक्टर साहब का ही ध्यान इस पर पंहुच जाए और स्थलीय निरीक्षण के दौरान पंहुचकर यंहा की व्यवस्था देख विभागीय अधिकारियों को कुछ दिशा निर्देश-आदेश दे जाएं।



तस्वीर सल्टौआ ब्लॉक के ग्राम पंचायत गोरखर की है जंहा पर नीर निर्मल योजना के तहत वर्ष 2014 में पानी की टंकी का निर्माण हुआ था लेकिन गांव के लोगों का दुर्भाग्य है कि आज तक इस टंकी से पानी की सप्लाई नही हो पाई जबकि परियोजना को उद्देश्य तक पंहुचाने के लिए 1 करोड़ 67 लाख रुपये की स्वीकृति हुई है ।

4 वर्ष पूर्व जब गांव के लोगों के लिए स्वच्छ पेय जल उपलब्ध करवाने के लिए परियोजना का शिलान्यास रखा गया तब गांव के लोगों में काफी खुशी थी लेकिन देखते ही देखते योजना का सारा पैंसा डकार लिया गया और ग्रामवासियों के सपने धरे के धरे रह गए

जब हमने इस पानी की टंकी का पड़ताल किय तो पता चला कि अभी तक यंहा बोरिंग भी नही लगाया गया है वंही दूसरी तरफ बोरिंग एवं रखरखाव के लिए बनाए गए भवन भी टूट रहे हैं  पानी टंकी के चारो तरफ बने चाहरदीवारी तो टूट कर बगल के खेतों में गिर चुकी है जो बचा हुआ है वह भी गिरने के कगार पर है ।

ऐसी स्थिति को देखकर एक बड़ा सवाल पैदा होता है कि आखिर इस योजना को उद्देश्य तक पंहुचाने के लिए जिम्मेदार लोग गंभीर क्यों नही हैं ?क्या यह योजना अब कागजों में सिमट कर रह जायेगी ?आख़िर कौन है इसका जिम्मेदार ?कौन तय करेगा जवाबदेही? यह एक बड़ा सवाल है इस किये कलेक्टर साहब को यंहा आना ही चाहिए।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।