कानपुर--महाभारत काल से है यहाँ हनुमान जी, बुढ़वा मंगल पर उमड़ता है भक्तो का सैलाब - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 25 September 2018

कानपुर--महाभारत काल से है यहाँ हनुमान जी, बुढ़वा मंगल पर उमड़ता है भक्तो का सैलाब

जिला संवाददाता-- रवि तहकीकात न्यूज़
 
 
शहर के ऐतिहासिक पनकी मंदिर में बुढ़वा मंगल को लेकर भक्तो की भारी भीड़ उमड़ी। दर्शन के लिए रात 12 बजे से ही लगने लगी श्र्धलुओ की कतार। और सुबह तक करीब दो किलोमीटर तक लग गई भक्तो की लाइन। सुरक्षा को लेकर पूरे मंदिर परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए है जिसने बराबर मानेटरिंग भी की जा रही है। वही आधा दर्जन एम्बुलेंस भी सुरक्षा के मद्दे नजर रक्खी गई है.इसके साथ ही भारी पुलिस बल भी तैनात किया गया है। 


 
महाभारत काल में अस्तित्व में आया ये मंदिर 

कानपुर सेन्ट्रल से करीब बीस किलोमीटर दूर पनकी थाने के अंतर्गत मौजूद भगवान राम भक्त हनुमान जी का ऐतिहासिक मंदिर स्थापित है, जिसे पनकी बाबा के नाम से जाना जाता है। 
 
 
इस मंदिर के महंत जितेंद्र प्रसाद के मुताबिक़ ये मंदिर कब अस्तित्व में आया, किसने बसाया इसकी जानकारी किसी को नहीं है। मगर ऐसा माना जाता है कि ये मंदिर महाभारत काल से अस्तित्व में आया। 
इनके मुताबिक़ महाभारत काल में हनुमान जी इस जगह पर साधना में लीन थे, जिसके बाद से यहाँ हनुमान जी की पूजा अर्चना शुरूवात हुई थी। 
ऐसा माना जाता है कि यहाँ जब हनुमान जी आये थे तब उन्होंने अपना वेशवूषा बुजुर्ग वाली बना रखी थी, जिसके बाद से यहाँ बुढ़वा मंगल पर इनका दर्शन पूजन का महत्व बढ़ गया। 

 दिनभर में तीन लाख से ज्यादा भक्त करते है दर्शन -  
 
महंत के मुताबिक़ इस मंदिर में हनुमान जी का दर्शन करने के लिए प्रवेश के लिए केवल महिला और पुरुष के लिए अलग अलग रास्ता बनाया गया है। 
मंदिर परिसर से करीब एक किलोमीटर दूर तक बैरिकेटिंग कर महला भक्त और पुरुष भक्तो को अलग अलग अंदर आने का रास्ता बनाया गया है। 
इनके मुताबिक़ बुढ़वा मंगल के दिन करीब तीन लाख से भी ज्यादा भक्तो की भीड़ उमड़ती है। 
 
 
 
इनके अनुसार बुढ़वा मंगल के दिन यहाँ दर्शन करने के लिए शहर के अलावा कन्नौज, फर्रुखाबाद हमीरपुर, ललितपुर, उन्नाव, फतेहपुर, जालौन और औरैया तक से भक्त आते है। 
इनके मुताबिक़ इस मंदिर में प्रसाद को पोलिथिन के अंदर लाने पर पूरी तरह से बैन है। 
- गर्मी को देखते हुए भक्तो को पिने के लिए ठंडा पानी का व्यवस्था की गयी है। लाइन में लगे भक्तो को सुबह से ही पानी पिलाने का काम किया जाता है।

चाकचौबंध है सुरक्षा व्यवस्था - 

बुढ़वा मंगल को लेकर कानपुर पुलिस ने मंदिर की सुरक्षा में करीब आधा दर्जन थाने की फ़ोर्स के साथ, तीन बटालियन पीएसी और तीन कंपनी आर ए ऍफ़ की भी तैनाती की गयी है। 
 
 
 
 
इनके साथ ही दो एसपी और आधा दर्जन सीओ मंदिर परिसर के साथ बाहर तैनात किये गए है।
मंदिर परिसर के साथ मंदिर के बाहर श्रद्धालुओं पर नजर रखने के लिए दो दर्जन से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे लगाए गए है।
वही किसी भी भक्त के अचानक तबियत खराब होने पर उन्हें हॉस्पिटल पहुंचाने के लिए करीब आधा दर्जन एम्बुलेंस भी रखे गए है।

No comments:

Post a Comment