एक्सप्रेस ट्रेन लूटकांड, क्या है पूरा मामला जाने - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 3 September 2018

एक्सप्रेस ट्रेन लूटकांड, क्या है पूरा मामला जाने


 
ब्यूरो- महेंद्र मिश्रा 

चित्रकूट मानिकपुर के पन्हाइ रेलवे स्टेशन में चेन्नई से छपरा जा रही गंगा कावेरी डाउन ट्रैन 12669 पर सशस्त्र बदमाशों ने देर रात धाबा बोल ६ बोगियों में यात्रियों से मारपीट कर लूटपाट की. जबकि ट्रैन में तक़रीबन आधा दर्जन जीआरपी के सशस्त्र जवान मौजूद थे. घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर डीआईजी, एसपी समेत भारी पुलिस बल डॉग स्क्वाड टीम के साथ मौजूद है. इतना ही नहीं एक पखवाड़े पहले भी मालगाड़ी के गॉर्ड के साथ लूटपाट हो चुकी है, पुलिस ने मामले को हलके में लिए था जिसके बाद आज फिर बदमाशों ने इस बड़ी वारदात करने से गुरेज नहीं किया. एसपी के मुताबिक नई उम्र के लड़को द्वारा ये वारदात की गई है वहीँ साढ़े पांच के इनामी डकैत दस्यु बबुली कोल के हाथ होने से भी गुरेज नहीं किया जा सकता पुलिस फिलहाल जंगलो की ख़ाक छानने निकल पड़ी है. 

 चेन्नई से छपरा जा रही गंगा कावेरी एक्सप्रेस पर देर रात डकैतों का कहर बरपा। सतना से आगे निकलने पर ट्रेन को डकैतों ने पनहाई रेलवे स्टेशन के पास सिगनल अप करके रोका। इसके बाद तक़रीबन ६ बोगियों में जमकर लूटपाट की फ़िलहाल अब पुलिस कॉबिंग कर रही है। चित्रकूट के मानिकपुर के पास कल देर रात सतना से इलाहाबाद के लिए निकली नॉन स्टॉपेज ट्रेन गंगा-कावेरी एक्सप्रेस को डकैतों ने सिग्नल डाउन कर मानिकपुर इलाहाबाद रेलखंड के पनहाई रेलवे स्टेशन के पास रोक लिया। इसके बाद दो बोगियों में तोडफ़ोड़ कर जमकर लूटपाट की। दर्जनों यात्रियों से लाखों रुपये लूटे हैं। एक दर्जन यात्रियों को मारपीट में चोटें आई हैं जिन्हे उनको इलाहाबाद में भर्ती कराया गया है। ट्रेन देर रात करीब 1:30 बजे पनहाई रेलवे स्टेशन के पास पहुंची तो सिग्नल नहीं मिलने के कारण चालक ने ट्रेन रोक दी। इतने में बोगियों में करीब आधा दर्जन डकैत घुस गए। डकैतों ने दो स्लीपर बोगियों के शीशे तोड़ डाले। लूटपाट का विरोध करने वाले यात्रियों के साथ जमकर मारपीट की। यहां पर ट्रेन करीब 45 मिनट तक रुकी रही और डकैत वारदात को अंजाम देते रहे। घटना में करीब एक दर्जन यात्री घायल हुए हैं। उनको इलाहाबाद में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। ट्रेन में डकैती की सूचना मिलने पर खलबली मच गई। डकैती की सूचना मिलने के बाद भी जीआरपी मौके पर देरी से पहुंची जबकि आधा दर्जन सशस्त्र जीआरपी के जवान ट्रैन में मौजूद थे बावजूद इसके डकैत आराम से भाग निकले। करीब तीन बजे ट्रेन को इलाहाबाद रवाना किया गया। चित्रकूट में ट्रेन में डकैती की सूचना पर डीएम समेत आला अफसर भी मौके पर पहुंचे। मामले की पड़ताल शुरू कर दी गई है। फिलहाल जांच में चेन पुलिंग कर गाड़ी रोकने की बात भी सामने आ रही है।

चित्रकूट के डीआईजी मनोज तिवारी, एसपी मनोज कुमार झा, अपर पुलिस अधीक्षक बलवंत चौधरी, थाना प्रभारी मानिकपुर केपी दुबे के साथ आरपीएफ इंस्पेक्टर ओंकार त्रिपाठी के नेतृत्व में भारी पुलिस बल जंगल में डकैतों की तलाशी में लगा हुआ है। यहां पर डकैतों की तलाश में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है। एसपी मनोज झा ने बताया कि जंगल मे डकैत गैंग की तलाश हो रही है। यात्रियों के मुताबिक वारदात करने वाले नई उम्र के लड़के थे, शक आसपास के बदमाशों पर है। साढ़े पांच लाख रुपये के इनामी दस्यु सरगना बबुली कोल के गैंग का भी हाथ भी हो सकता है। यहां पर फिलहाल सर्च ऑपरेशन जारी है। आरपीएफ, जीआरपी व पुलिस की संयुक्त जांच कर जल्द मामले का पर्दाफाश कर सच्चाई सामने लाई जाएगी। आपको बता दें कि गंगा कावेरी एक्सप्रेस चेन्नई से छपरा जा रही थी। बदमाशों के सतना रेलवे स्टेशन चढऩे की बात फिलहाल जांच में सामने आई है। घटना स्थल पर डीआईजी चित्रकूटधाम परिक्षेत्र मनोज तिवारी भी पहुंच गए हैं। डॉग स्क्वायड को लेकर पुलिस चप्पे चप्पे की जांच कर रही है। आसपास के गांवों में भी पड़ताल तेज की गई है। रेलवे प्रशासन के भी कई अधिकारी मौके पर पहुंच रहे हैं। बता दें कि पहले भी इलाहाबाद मंडल के अंतर्गत इलाहाबाद से सतना रेलवे स्टेशनों के बीच यात्रियों की सुरक्षा को लेकर रेलवे प्रशासन की कार्यशैली पर सवाल उठते रहे हैं। कई बार घटनाओं को डकैत व बदमाश अंजाम दे चुके हैं। पुलिस, जीआरपी और आरपीएफ बदमाशों, जंगल मे सक्रिय डकैतों के बीच झूलती रहती है। कुछ हफ्ते पहले इसी रूट पर कई छोटे छोटे स्टेशनों पर ऐसे ही बदमाशो द्वारा मारपीट की कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं। बांसा पहाड़ रेलवे स्टेशन के पास मालगाड़ी के गार्ड से लूटपाट की घटना भी एक पखवारे पहले हो चुकी है बावजूद इसके खाकी की बेपरवाही के चलते आज यह लूटकांड कर पाने में डकैत कामयाब हो पाए हैं. 


No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।