कानपुर - भाजपा को हटाना हमारा एक मात्र उद्देश्य - अखिलेश यादव - तहकीकात न्यूज़

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 15 October 2018

कानपुर - भाजपा को हटाना हमारा एक मात्र उद्देश्य - अखिलेश यादव

ब्यूरो कानपुर - रवि गुप्ता 
 
सोमवार को सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम के बेटे की शादी अटेंड करने पहुंचे जहां उन्होंने परिवार को बधाई दी। वही अखिलेश यादव ने मीडिया से वार्ता भी की।  



भाजपा को हटाना हमारा एक मात्र उद्देश्य इस शहर को मैनचेस्टर कहा जाता है क्योंकि यहां मिल्स थी गंगा मैया की स्वच्छता पर बोलते हुए कहा कि गंगा मैया तब तक साफ और निर्मल नही हो सकती जब तक गंगा से जुड़ी छोटी नदियां और कन्नौज की काली नदी की सफाई नहीं होती।
कुम्भ को ही सरकार ने धोखा दे दिया कुम्भ जबकि अर्धकुम्भ है।

सबका साथ और सबका विकास कैसे होगा यह भाजपा के लोग बताए मेट्रो का काम हो या ट्रांसगंगा और न ही नौकरियां मिली ,व्यापार चौपट, इस सरकार ने इंडस्ट्रियों को बन्द कर दिया ये अच्छे दिन वाला भारत हैं। अखिलेश यादव सपा बसपा के गठबंधन पर कहा कि हमारा केवल एक ही मकसद है बीजेपी को हटाना और बीएसपी प्रमुख मायावती के उस बयान जिसमे मायावती ने टिकटों को भीख में न मांगने के बयान का अखिलेश ने स्वागत किया।

साथ ही प्रदेश के मुख्यमंत्री कहते है कि ठोक दो वाह क्या भाषा शैली है और इन्ही के वजह से पुलिस ठोक रही है जिसका परिणाम लखनऊ के तिवारी हत्याकांड है और आज अम्बेडकर नगर बीएसपी के इस नेता को गोली मार दी गई प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरीके से खराब हो चुकी है। जनता के सामने सब हकीकत है वहीं अखिलेश ने बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा और शत्रुघन सिन्हा की तारीफों के कसीदे पढ़े उन्होंने जो जिम्मेदारी ली है लोगों को जगाने की वह काबिले तारीफ है और लोकतंत्र के लिए बड़ी बात है।

राममंदिर पर बोलते हुए कहा कि सपा सरकार होती तो एक्सप्रेसवे बलिया पहुंच गया होता वहीं उन्होंने कहा कि कई बीजेपी के सांसद हमारे सम्पर्क में है समय आने पर नाम खोलूँगा और बीजेपी वाले महागठबंधन के धोखे में रहे इसलिए ही गोरखपुर, फूलपुर,और कैराना हारे और इस तरह ये आगे भी हारेंगे। गुजरात मे जिस तरह से यूपी बिहार के लोगो का पलायन हो रहा है इस पर अखिलेश ने बोलते हुए कहा कि जिन यूपी, बिहार के लोगो के लोहे से गुजरात मे सरदार पटेल की प्रतिमा बनी उन्ही को आज वहां मारा जा रहा है 

भगाया जा रहा है और इस सरदार पटेल की पूरी प्रतिमा चीन के मजदूरों,और ठेकेदारो ने मिलकर बनाया आप तो स्वदेशी की बात कह रहे थे और मूर्ति का सामान लाने चीन चले गए। यह सरकार की हर हरकत जनता जान चुकी है। वही उनकी सरकार रहते जो मूर्ति बनाने का प्रस्ताव भेजा था उसको भी मोदी सरकार ने बदल दिया उनकी सरकार में सरदार पटेल की आँखों से दुनिया को देखने का प्रावधान था जबकि मोदी सरकार ने उनकी पीठ से नजारा देखने का काम किया है

No comments:

Post a Comment