कन्नौज - बाल्मीकि जयंती के शुभ अवसर पर एक नया नजारा देख आँखे फटी की फटी रह गई - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 24 October 2018

कन्नौज - बाल्मीकि जयंती के शुभ अवसर पर एक नया नजारा देख आँखे फटी की फटी रह गई

रिपोर्ट कन्नौज - मोबीन मन्सुरी

ल्मीकि जयंती पर बाल्मीकि समाज ने झांकी जुलूस निकालकर जयंती मनाई लेकिन इस जयंती के जुलूस में लड़कियों का अश्लील डॉन्स इस कदर हुआ कि देखने बालो की भारी भीड़ जमा हो गई । क्या यही तरीका है भगवान को खुश करने का या इसकी वजह शिक्षित न होना भी है ।



हम आपको लेकर चलते है कन्नौज जनपद के छिबरामऊ कोतवाली कस्बे में जहाँ आज बाल्मीकि जयंती के शुभ अवसर पर एक नया नजारा देख आँखे फटी की फटी रह गई जब बाल्मीकि जयंती के जुलूस में लड़कियां अश्लील डॉन्स करती हुई दिखाई दी । अश्लील डॉन्स में लग रहे ठुमके देखकर लोगो की भारी भीड़ जमा हो गई और सड़क पर खड़े लोगो ने अश्लील डॉन्स का पूरा मजा लिया ।


बताया जाता है जयंती के जुलूस कार्यक्रम में जो लड़कियां अश्लील डॉन्स के ठुमके दिखाकर लोगो को अपनी और आकर्षित कर रही थी वह बाहर से बुकिंग कर बुलाई गई थी । बाल्मीकि जयंती हो या किसी अन्य धर्म का कार्यक्रम हो क्या इस तरह के डॉन्स की कोई परमीशन ली गई थी या इस तरह के अश्लील डॉन्स की परमीशन दी जाती है अगर परमीशन नही दी गई है तो इस जुलूस के साथ चल रहे ट्रेक्टर ट्रॉली पर सवार यह लड़कियाँ कैसे अश्लील डॉन्स कर रही है ।

जुलूस में ऐसा तो नही कि पुलिस प्रशासन के लोग उनकी सुरक्षा में न लगे हो। कानून की धज्जियां उड़ा रहे जयंती के सर्वराकार की हिम्मत तो दिखिये कि जुलूस को कोतवाली के सामने से ही निकाल रहे है और कोतवाली के सामने गेट पर खडे खाकी वर्दी पहने उत्तर प्रदेश पुलिस के जवान बालाओं का अश्लील डॉन्स देखने में व्यस्थ्य है । कानून की रखवाली करने वाले जब रक्षक भी इसे रोकने में नाकामयाब है तो हम लोग कैसे इन सबको रोक सकेंगे । 


बस्ती के बीच से बाल्मीकि जयंती झांकी के जुलूस को पढ़ने बाले बच्चों पर इसका कितना असर होता होगा यह दृश्य देख कर परिवार भी शर्मिन्दा हो जाता होगा ऐसे अश्लील डॉन्स को देखकर । यह क्या पूजा का तरीका है 'नही' नही  यह लोग भगवान बाल्मीकि जी को बदनाम कर रहे है । यह उनके अनुयायी नही हो सकते । यह तो साफ हो गया कि जुलूस को निकाल रहे है जयंती के सर्वराकार शिक्षा से कोषों दूर है कही न कही शिक्षा का आभाव जरूर है। अब क्या कार्यवाही पुलिस प्रशासन के लोग करते है ये आने वाला बख़्त ही बताएगा । फिलहाल इस पर कोई भी आलाधिकारी या जयंती के सर्वराकार बोलने के लिए तैयार नहीं हुए।

No comments:

Post a Comment