डॉ प्रवीण तोगड़िया अपने हजारों समर्थकों के साथ राजधानी लखनऊ से अयोध्या कूच - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 21 October 2018

डॉ प्रवीण तोगड़िया अपने हजारों समर्थकों के साथ राजधानी लखनऊ से अयोध्या कूच





चीफ रिपर्टर UP -चन्द्र मोहन तिवारी 
 
प्रशासन की रोक के बावजूद अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष डॉ प्रवीण तोगड़िया अपने हजारों समर्थकों के साथ राजधानी लखनऊ के ईको गार्डन में एकत्रित हुए। समर्थकों को संबोधित करते हुए प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि सरकार तीन तलाक और एससी एसटी एक्ट पर अध्यादेश ला सकती है तो राम मंदिर के लिए अध्यादेश क्यों नहीं ला सकती। उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के मुद्दे पर किसी कोर्ट के आदेश पर निर्भर नही रहेंगे। राम मंदिर के मुद्दे पर ही भाजपा आज 20 प्रदेशो और केंद्र में सरकार में है।


बताते चलें कि प्रवीण भाई तोगड़िया के संगठन अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद (अहिप) ने रविवार को हर हाल में अयोध्या कूच का एलान किया था। जिसपर प्रशासन ने पहले ही रोक लगा दी थी। इसके बावजूद आज बड़ी संख्या में समर्थक राजधानी के ईको गार्डन में इकट्ठा हुए। जिसे देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है।

प्रवीण तोगड़िया ने मंच से केंद्र की बीजेपी सरकार और प्रधानमंत्री पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण के मुद्दे पर भाजपा लोकसभा में 2 सीटों से लेकर पूर्ण बहुमत की सरकार तक पहुंची है। भाजपा ने हिमाचल प्रदेश के राष्ट्रीय अधिवेशन में कानून बनाकर अयोध्या में राम मंदिर बनवाने का प्रस्ताव पारित किया था, लेकिन साढ़े 4 वर्ष बीतने के बाद नरेंद्र मोदी अब अयोध्या आना तक भूल गए।

प्रवीण तोगड़िया के समर्थन में प्रदेश भर से बड़ी संख्या में युवक, युवतियां यहां इकट्ठा हुए। तोगड़िया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी युवाओं को रोजगार, सस्ती शिक्षा, करमुक्त किसान और सस्ता पेट्रोल देने तक में नाकाम रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारा संघर्ष अयोध्या में राम मंदिर बनाने के साथ युवाओं को रोजगार, विद्यार्थियों को सस्ती शिक्षा, सस्ता पेट्रोल और कर्ज मुक्त किसान के लिए भी है।

प्रवीण तोगड़िया यहीं नहीं रुके गुजरात दंगों के बाद का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि जब पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी नरेंद्र मोदी को मुख्यमंत्री पद से हटाने में जुटे थे, तब तोगड़िया ने ही ढाल बनकर उनकी कुर्सी बचाई थी। इसलिए मेरा विरोध उनसे नहीं है।

No comments:

Post a Comment