राष्ट्र विरोधी कृत्यों को नहीं बर्दाश्त करेगी भाजपा - संजय राय - तहकीकात न्यूज़

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 15 October 2018

राष्ट्र विरोधी कृत्यों को नहीं बर्दाश्त करेगी भाजपा - संजय राय

ब्यूरो उ० प्र० - महेन्द्र मिश्रा 
 
भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय राय ने आज प्रदेश पार्टी मुख्यालय में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले कुछ कश्मीरी छात्रों द्वारा देश विरोधी नारे लगाने के आरोप में साथियों पर दर्ज मुकदमों के विरोध में ए.एम.यू. एवं अलीगढ़ प्रशासन पर यह कहकर दबाव बनाया जा रहा है कि यदि आरोपित छात्रो पर से मुकदमा वापस नहीं किया जायेगा, तो विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले 1200 कश्मीरी छात्र वापस कश्मीर चले जायेंगे। ऐसे लोगों द्वारा राष्ट्र विरोधियों के पक्ष में दबाव बनाना राजद्रोह को बढ़ावा देना है और भारतीय जनता पार्टी इस प्रकार के किसी भी देश विरोधी गतिविधि को बर्दाश नहीं करेंगी।


प्रदेश प्रवक्ता संजय राय ने कहा कि विदित है कि कश्मीरी आतंकवादी मन्नान वानी के सेना द्वारा मुठभेंड़ में मारे जाने के बाद अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में कश्मीर के पढ़ने वाले सैकड़ो छात्रों द्वारा एकात्रित होकर देश विरोधी नारा लगाया गया और जनाजे की नमाज पढ़ने के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन पर दबाव बनाया गया। एकत्रित छात्रों में से कुछ ने देश तोडने के नारे लगाये, और भीड़ में से कुछ जिम्मेदार छात्रों ने देश विरोधी नारे लगाने वाले छात्रों का विडियों बना लिया। इस विडियो के आधार पर ए.एम.यू. प्रशासन ने तीन छात्रों पर कार्यवाही की और अलीगढ़ प्रशासन ने उन छात्रों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया।

उन्होंने कहा कि प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी 17 नवम्बर 2019 को सर सैयद अहमद खां के जन्मदिन को ए.एम.यू. प्रशासन काफी धूमधाम से मनाने जा रहा है। कुछ लोग इस हद तक नीचे गिर गये है कि छात्रों पर दर्ज हुए मुकदमों की आड़ में इस समारोह का भी विरोध कर रहे है। संजय राय ने कहा कि भाजपा यह मांग करती है कि इस मुद्दे पर ए.एम.यू. प्रशासन एवं अलीगढ़ जिला प्रशासन को अराजकतत्वों के सामने झुकना नहीं चाहिए। बल्कि भीड़ में जिन दर्जनों छात्रों ने भारत माँ के टुकड़े करने के नारे लगाये उनकों भी चिन्हित करके यथाशीघ्र कड़ी कार्यवाही करना चाहिए। 

इसी के साथ भाजपा यह भी मांग करती है कि देश के मुस्लिम समाज के बुद्धिजिवियों को भी इस मुद्दे पर खुलकर आगे आना चाहिए और जिन छात्रों ने भारत विरोध तथा आतंकवादी मन्नान वानी के समर्थन में नारे लगाये उनकी निंदा करनी चाहिए। मुस्लिम समाज की इस ज्वलंत मुद्दे पर चुप्पी निश्चित रूप से देश के आम लोगों को गवारा नहीं है। क्यों कि हम देखते रहे है कि देश के किसी मुस्लिम समाज के साथ हुई किसी भी घटना में अससुद्दीन औवेसी, जफर याब जिलानी जैसे लोग तुरन्त प्रतिक्रिया देते है। देश का आमजन इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर मुस्लिम बुद्धजीवियों की ओर देख रहा है, कि वे क्या प्रतिक्रिया देते है

No comments:

Post a Comment