कानपुर-- रेल हादसे की सूचना पर जिला प्रशासन में मचा हरड़कंम्प ,- मॉकड्रिल देख ली राहत की सांस - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 30 November 2018

कानपुर-- रेल हादसे की सूचना पर जिला प्रशासन में मचा हरड़कंम्प ,- मॉकड्रिल देख ली राहत की सांस

ब्यूरो कानपुर - रवि गुप्ता
 
 शुक्रवार को शहर के लोको स्टेशन के पास एक बड़े रेल हादसे की सूचना की सूचना  मिलते ही जिला प्रशासन में हड़कम्प मच गया। और देखते ही देखते प्रशासनिक अफसरों के साथ ही चिकित्सा विभाग  चंदारी रेलवे स्टेशन पहुंच गए।  घटना की गंभीरता को देखते हुए  जिला प्रशासन ने शहर के सभी सरकारी अस्पतालों के साथ साथ प्राइवेट अस्पतालों में भी हाई अलर्ट जारी कर दिया। और रेल हादसे में घायल हुए लोगो के तत्काल उपचार की व्यवस्था के निर्देश जारी कर दिए। हालात यह थे कि चंदारी लोको स्टेशन व उसके आसपास के क्षेत्र छावनी में तब्दील हो गया और पूरे इलाके को सील कर दिया गया। 
 
लोको स्टेशन पर रेल हादसे की सूचना मिलते ही कई थानों की पुलिस बल ने कमान अपने हाथ मे थाम ली। यह सब मात्र 10 मिनट में घटित हुआ जब लोको स्टेशन पर जिले के अफसरान पहुंचे तब उन्हें रेलवे प्रशासन ने अवगत कराया कि यह कोई रेल दुर्घटना नही बल्कि मॉकड्रिल थी और इसके माध्यम से यह देखा जा रहा था कि आपात स्थिति में प्रशासन कितनी जल्दी मदद मुहैया करा सकता है इसकी जानकारी मिलते ही प्रशासनिक अफसरों ने राहत की सांस ली। रेलवे प्रशासन द्वारा किसी रेल हादसे के होने पर कितनी जल्दी मदद मुहैया होगी इसको लेकर एक मॉकड्रिल का आयोजन शुक्रवार को लोको स्टेशन में किया गया। रेलवे ने हादसे  के स्थान  चंदारी लोको स्टेशन पर पहुंचने के लिए आरपीएफ ,जीआरपी को सूचना देने के साथ ही जिला प्रशासन को जानकारी दी. इस जानकारी के मिलते ही जिला प्रशासन सक्रिय हुआ और जिलाधिकारी विजय विश्वास पंत , एडीजी अविनाश चन्द्र समेत अन्य अफसर तत्काल ही मौके पर पहुंचे और पूरे हालातो का जायजा लिया ,इसी बीच डीएम पंत ने शहर के सरकारी व निजी अस्पतालों में अलर्ट जारी करते हुए घायलों को तत्काल चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराए जाने के निर्देश दिए। इस घटना के आसपास फैलने से स्टेशन के पास ही स्थित सुजातगंज बस्ती व श्याम नगर क्षेत्र में रहने वाले सैकड़ो बाशिंदे मौके पर मदद के लिए पहुंच गए। लेकिन मॉकड्रिल की सूचना मिलने पर सभी ने राहत की सांस ली। और वापस अपने घर  की ओर रवाना हो गए। 

मॉकड्रिल में बचाव कर्मियों ने दिखाया कि हादसे के दौरान अगर कोई यात्री घायल होता है या मरणासन्न में होता है तो उसे किस प्रकार क्षतिग्रस्त डिब्बों से बाहर निकाला जाए और स्ट्रेचर पर लेकर एम्बुलेंस तक पहुंचाया जाए ज्यादा गम्भीर हालत के मरीजो को एम्बुलेंस में ही जीवन रक्षक उपकरणों के माध्यम से उसे राहत पहुंचाई जाए ताकि उसे उपचार के लिए अस्पताल तक पहुंचाया जा सके।जिससे उसकी जान बच सके।

No comments:

Post a Comment