कानपुर देहात - महिलाओं और छात्राओं की शुरक्षा का दावा करने वाली योगी सरकार की यूपी पुलिस आज सवालों के घेरे में है - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 13 November 2018

कानपुर देहात - महिलाओं और छात्राओं की शुरक्षा का दावा करने वाली योगी सरकार की यूपी पुलिस आज सवालों के घेरे में है

रिपोर्ट - अरविन्द शर्मा 


कानपुर देहात की अकबरपुर कोतवाली पुलिस का एक ऐसा कारनामा सामने आया है जिसने पूरे यूपी पुलिस को शर्मसार कर दिया है अकबरपुर इंस्पेक्टर की कार्यशैली के चलते एक माशूम को अपनी जान गवांनी पड़ी जबकि दूसरी माशूम अस्पताल में जिंदगी और मौत से लड़ रही है वही पीड़ित परिवार की तहरीर पर 7 दिन तक अकबरपुर कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज नही किया मासूम की मौत के 4 घण्टे बाद पुलिस ने आनन फानन मुकदमा दर्ज कर खानापूर्ति कर ली





महिलाओं और छात्राओं की शुरक्षा का दावा करने वाली योगी सरकार की यूपी पुलिस आज सवालों के घेरे में है मगर ऊपर बैठे पुलिस के आलाधिकारी जानकर भी अनजान बने बैठे है और ऐसे इंस्पेक्टर पर कोई कार्यवाही अब तक नही की गयी है 



दरअसल मामला कानपुर देहात की अकबरपुर कोतवाली क्षेत्र की है जहाँ दयानंद इंटर कालेज बाढ़ापुर से 5 नवम्बर को स्कूल से परीक्षा देकर घर जाने को निकली छात्राओं को एक लोडर चालक ने गाँव छोड़ने को कहकर अपने लोडर में बैठा लिया इसके बाद उस चालक ने छात्राओं के साथ अश्लील हरकतें करना शुरू कर दिया जब इसका विरोध इन छात्राओं ने किया तो लोडर चालक ने लोडर तेजी से भगाना लगा अपनी अस्मत बचाने के लिये इन दोनों छात्राओं ने तेज चल रहे लोडर से कुद गयी और अपनी आबरू तो बचा ली मगर गिरने से एक छात्रा कोमा में चली गयी तो वही दूसरी छात्रा के हाथ और पैर टूट गया और उसके पूरे शरीर में चोटे आ गयी गाँव के लोगो ने लोडर चालक को घेरकर अकबरपुर पुलिस के हवाले कर दिया इसके बाद को पीड़ित परिवार ने अकबरपुर कोतवाली में घटना को लेकर तहरीर दी और घायल छात्राओं को लेकर कानपुर के हैलट में भर्ती कराया मगर पीड़ित द्वारा तहरीर देने के बाद भी अकबरपुर पुलिस ने मुकदमा दर्ज करना मुनासिफ नही समझा बल्कि गाँव वालों द्वारा पकड़ कर दिए गए लोडर चालक को अकबरपुर इंस्पेक्टर ने छोड़ दिया 7 दिनों तक हैलट अस्पताल में संघर्ष करने के बाद कल इलाज के दौरान जब एक छात्रा की मौत हो गयी तो पुलिस ने अनन फानन अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर खानापूर्ति कर ली 
जबकि उसके साथ लोडर से कूदी दूसरी किशोरी की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है. जिसका इलाज कानपुर के हैलट अस्पताल में चल रहा है


वहीं अकबरपुर पुलिस ने इस मामले में घोर लापरवाही बरतते हुए मौके से गिरफ्तार किए गए लोडर चालक को छोड़ देने के बाद अब 7 दिन बाद अज्ञात में मुकदमा दर्ज करना पुलिस के लिये गले की फांस बन गयी है आखिर लोडर चालक को पकड़ने के बाद छोड़ देना और फिर अज्ञात में मुकदमा लिखना अकबरपुर पुलिस की घोर लापरवाही की कार्यशैली को उजागर करता है लेकिन ऊपर बैठे पुलिस के आलाधिकारी सब जानतें हुए अंजान बने हुए है और ऐसे इंस्पेक्टर पर कोई कार्यवाही न करना पुलिस के ऊपर बैठे अधिकारियो पर भी प्रश्नचिन्ह लगाता नजर आ रहा है
छात्रा की मौत के बाद उसके परिजनों में पुलिस के रवैयै के प्रति गुस्सा और नाराजगी देखने को मिल रहा है.

No comments:

Post a Comment