कानपुर - अल्पसंख्यक समाज व मुस्लिम समाज को आरक्षण दिया जाए - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 29 November 2018

कानपुर - अल्पसंख्यक समाज व मुस्लिम समाज को आरक्षण दिया जाए

ब्यूरो कानपुर -  रवि गुप्ता 

पीस पार्टी ऑफ इंडिया के तत्वावधान में कानपुर जिला अध्यक्ष के नेतृत्व में कार्यकर्ताओ ने एकजुट होकर फूलबाग स्थित गांधी प्रतिमा पर अल्पसंख्यक समाज को 15 प्रतिशत आरक्षण में व 10 प्रतिशत मुस्लिम समाज को आरक्षण दिए जाने की मांग को लेकर भूख हड़ताल करते हुए धरना प्रदर्शन किया। और राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन देते हुए मांग की है कि हमारे समाज का कोई भी हिस्सा अविकसित न रह जाए सभी धर्मों, वर्गों की सामाजिक,आर्थिक,शैक्षिक और पिछड़ेपन के आधार पर आरक्षण दिया जाए।
   

टेनरियां बन्द होने से लाखों मजदूर भुखमरी के कगार पर

जिलाध्यक्ष मोइनुद्दीन के नेतृत्व में भूख हड़ताल करते हुए गांधी प्रतिमा पर धरना प्रदर्शन करते हुए कहा कि 1950 में तत्कालीन प्रधानमंत्री नेहरू जी ने 341 धारा लगाकर हमारा आरक्षण खत्म कर दिया था उसे लागू कर उस धारा को खत्म किया जाए जिसके लिए आज हम यहाँ धरना प्रदर्शन करने को मजबूर है। 1950 के असमवैधानिक अध्यादेश जो मात्र हिन्दू धर्मावलंबियों को ही अनुसूचित जाति का दर्जा देता है इसे समाप्त कर ईसाई और मुस्लिम समाज के अति पिछड़े को भी अनुसूचित जाति का दर्जा व लाभ दिया जाए। साथ ही उन्होंने कहा कि जाजमऊ की टेनरियों को जो बन्द कर दी गयी है जिससे लाखो मजदूर गरीब वर्ग के लोग भुखमरी के कगार पर आ
 
 
 
खड़े है यह सरकार को सोचना चाहिए कि वह गरीब कहाँ जाए और कैसे अपने परिवार का भरण पोषण करेगा। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि चर्म उद्योग को बचाने के लिए प्रदूषण विभाग को समुचित व्यवस्था दिलाने का कार्य किया जाए जिससे लाखो लोगों के प्रदूषण के नाम पर बन्द हो रही रोजी रोटी बचाई जा सके।  यदि हमारी मांग न पूरी हुई तो आज तो भूख हड़ताल किये है आगे सड़को पर उतरकर प्रदर्शन होगा। इस धरने में तमाम लोग मौजूद रहे।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।