राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दुबे ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा किसान सम्मान निधि योजना के बहाने देश के किसानों को लुभाने का कुचक्र रचने की कोशिश - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 25 February 2019

राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दुबे ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा किसान सम्मान निधि योजना के बहाने देश के किसानों को लुभाने का कुचक्र रचने की कोशिश





महेन्द्र मिश्रा ब्यूरो

राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दुबे ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा किसान सम्मान निधि योजना के बहाने देश  के किसानों को लुभाने का कुचक्र रचने की कोशिश की है जबकि वास्तव में यह योजना किसान अपमान योजना के नाम से जानी जायेगी। 17 रूपये प्रतिदिन किसान परिवार के लिए देना उनका स्पष्ट अपमान है क्योंकि कम से कम परिवार में 4 प्राणी होना स्वाभाविक है| दुबे ने कहा कि उ0प्र0 का गन्ना किसान गन्ना मिलों की नीतियों और उनकी पर्ची वितरण की कार्यप्रणाली से त्रस्त है विगत सत्र की अपेक्षा गन्ने की पेराई चीनी मिलों में कम हुयी है और किसान का गन्ना खेतों में खडा है जिससे आगामी फसल के लिए खेत खाली नहीं हो पा रहे हैं। लगभग 11 करोड रूपया गन्ने का बकाया चीनी मिलों पर हो चुका है जिसके भुगतान की सम्भावना नजर नहीं आ रही है। देश के प्रधानमंत्री किसानों की आय दुगुनी करने का सपना दिखाते हुये अब 17 रूपये प्रतिदिन सहायता के रूप में देने का प्रयास कर रहे हैं जो हास्यास्पद के साथ साथ निंदनीय है रालोद के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दुबे ने कहा कि अच्छा होता कि सरकारें किसानों की सम्पूर्ण फसल खरीदने की योजना प्रारम्भ करती और लागत मूल्य का दुगुना किसानों को मिलता। सरकार ने देश  के किसानों को अज्ञानी और लालची समझा रखा है यही कारण है कि कभी ऋणमाफी के नाम पर तो कभी किसान सम्मान निधि योजना के नाम पर अपना राजनीतिक स्वार्थ हासिल करना चाहती है।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।