लम्भुआ कोतवाली में तैनात आरछी वीरेन्द्र सिंह पटेल ने झुठलाई इंसनियत जिन्दा ना होने की बात - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 29 April 2019

लम्भुआ कोतवाली में तैनात आरछी वीरेन्द्र सिंह पटेल ने झुठलाई इंसनियत जिन्दा ना होने की बात




रिपोर्ट - रीतू श्रीवास्तव

इस धरती पर जहाँ लोगो मे इंसानियत नाम की चीज नही है,वही लम्भुआ कोतवाली में आरछी के पद पर तैनात वीरेन्द्र सिंह पटेल,नाम का यह व्यक्ति अपने आप मे कुछ अलग दिखता है,जहाँ जानवर किसानों की खेती को साफ करते नजर आते है,किसान उनको मारते पीटते है,वही यह आरछी इन बेजुबान जानवरो की दिल से सेवा करता है,अभी हाल ही में एक सांड किसी,वाहन की चपेट में आ गया था,और उस चोटहिल अनबोलता जानवर को कोतवाली के सामने कोई छोड़ दिया,वह जानवर चलने में असमर्थ होने के नाते अपना पेट नही भर पा रहा था,इसी बीच आरछी वीरेंद्र सिंह पटेल की निगाह पड़ी तब से आज तक उस अनबोलता जानवर की खाने के लिए चारा पर पानी की व्यवस्था करते रहे पता भगवान को क्या मंजूर था,सांड को चार माह बाद मृत्यु हो गई,इस पर भी आरछी वीरेंद्र अपने सहयोगी आरछीयो के साथ मिल कर जेसीवी बुला कर गड्ढा बनवाकर उसमे नामक डलवा कर उसे गड्ढे में दफनवा दिया,इसमे थाने में तैनात पवन के साथ साथ और आरछी,सिपाहियो का भरपूर सहयोग वीरेंद्र को मिला,बात यही नही खत्म होती अपने निजी वेतन से पैसा खर्च करके ऐसे अनबोलता पशुओं पंछियो के लिए पानी पीने की एक बड़ी सी टंकी बनवाकर उसमे हर दिन पानी भरते है,इसका नजारा देखने हो तो थाने के बगल किसी भी छड़ इस टंकी पर 10 मिनट का समय दे कर खड़े होकर देखिए,यहां जानवरो की लाइन लगती है,पानी पीने के लिए,वीरेंद्र सिंह पटेल ने बताया कि हमे हमारे साथियो के साथ कोतवाली प्रभारी लम्भुआ श्याम सुंदर पाण्डेय जी का भरपूर सहयोग और ऊपर वाले का आशीर्वाद मिला और इस नेक कार्य मे हमे सफलता मिलती है। 

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।