मायावती जी ने कहा कि किसी व्यक्ति को तभी गाली दी जाती है जब वह गाली खाने का काम करता है - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 13 May 2019

मायावती जी ने कहा कि किसी व्यक्ति को तभी गाली दी जाती है जब वह गाली खाने का काम करता है

 न्यूज़ डेस्क तहकीकात लखनऊ 

समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल की दो संयुक्त रैलियां गोरखपुर और गाजीपुर में हुई जिनको समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष  अखिलेश यादव, बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष  मायावती जी और रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्षअजीत सिंह ने संबोधित किया। गठबन्धन की लोकसभा गोरखपुर, महाराजगंज एवं कुशीनगर की संयुक्त रैली रामगढ़ताल के निकट जिला गोरखपुर में और लोकसभा गाजीपुर की संयुक्त रैली पुलिस लाइन के पास हुई गोरखपुर और गाजीपुर की संयुक्त रैलियों को संबोधित करते हुए बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष  मायावती ने कहा कि नमो नमो अब जाने वाले है। प्रधानमंत्री जी की नाटकबाजी और जुमलेबाजी अब उनके काम नहीं आने वाली है। गरीबों को अच्छे दिनों का प्रलोभन देकर जो वादे किए थे उनका एक चैथाई भी पूरा नहीं किया। भाजपा ने सिर्फ बड़े पूंजीपतियों और धन्नासेठों को बढ़ावा दिया है। वोटों के लिए गरीब होने का नाटक किया जाता है। जनता भाजपा और कांग्रेस की सच्चाई जान गई है। इन चुनावों में उसने केंद्र की सत्ता में बदलाव के साथ उत्तर प्रदेश में भी सरकार बदलने का इरादा कर लिया हैं।मायावती जी ने कहा कि किसी व्यक्ति को तभी गाली दी जाती है जब वह गाली खाने का काम करता है। मैने कभी प्रधानमंत्री जी से उनकी जाति नही पूछी बस इनकी असली जाति के बारे में बताया है। वे जन्मना पिछड़े वर्ग के नहीं है। असली पिछड़े तो अखिलेश जी बैठे है। मोदी जी फर्जी और नकली ओबीसी हैं। इन्होने गठबन्धन को कमजोर करने की कोशिश की पर यह पूरी तरह से एकताबद्ध है। यह गठबन्धन लंबा, टिकाऊ और मजबूत है। इससे भाजपा घबराई हुई है। भाजपा नेताओ की नींद उड़ी हुई है। उन्होने कहा कि भाजपा ने अर्थव्यवस्था खराब की। 


कांग्रेस भी झूठे वादे कर रही है। हम सत्ता में आने पर गरीबों के परिवारों को स्थायी नौकरी दिलाएगें समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकारों ने किसानों, नौजवानो और अल्पसंख्यको का भरोसा तोड़ दिया है। मंहगाई बढ़ गई। जनहित की योजनाएं जो समाजवादी सरकार ने चलाई थी, उन्हें भी रोक दिया गया। अब 5 साल का की नही 2 साल का भी हिसाब जोड़कर सात वर्ष का जवाब लेना होगा। उन्होने कहा कि इस बार गठबन्धन की आंधी में कोई बचने वाला नहीं है। पिछले चुनाव में आदरणीया मायावती जी ने सिर्फ समर्थन दिया था इस बार गठबन्धन है। जनता जान गई है कि 6 चरणों के बाद गठबन्धन का कहीं कोई मुकाबला नही है।श्री यादव ने कहा कि भाजपा और कांग्रेस में फर्क नहीं है। इसलिए किसी को कोई भ्रम या संदेश नहीं रहना चाहिए। यह चुनाव झूठ बोलने वालों को, धोखा देने वालों को सबक सिखाने का भी चुनाव है। हमारा कहना है कि देश को आगे ले जाना है तो नए अस्पताल, शिक्षा व्यवस्था और विकास का बुनियादी ढांचा मजबूत करना होगा। ये नए भारत की बात कर रहे है  गठबन्धन नया प्रधानमंत्री बनाने की बात कर रहा है। जिससे मजबूत देश बने। उन्होने कहा कि यह चुनाव हमारा आपका भविष्य भी तय करेगा।अखिलेश यादव ने कहा कि किसान भाई धूप में पसीना बहाते हैं उन्हें क्या मिला? नौजवान की नौकरी गई वह बेकार घर में बैठा है। माताओं, बहनों को मिला सिलेंडर दुबारा नहीं भरा पा रही हैं। इलाज की व्यवस्था बर्बाद हो गई। समाजवादी पेंशन बंद हो गई। पुलिस को यूपी 100 नंबर मदद के लिए दिया था वह भी बर्बाद हैं। अब चैकीदार को ही नही ठोकीदार को भी हटाना है। उन्होने कहा कि संविधान से जो कुछ अधिकार मिले थे भाजपा उसके खिलाफ भी षडयंत्र कर रही है। नोटबंदी और जीएसटी ने अर्थव्यवस्था को चैपट कर दिया है। राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष  अजीत सिंह ने प्रधानमंत्री जी को पूंजीपतियों का दलाल कहते हुए कहा कि एक बार गलती हो गई अब दुबारा मतदाता किसी झूठ बोलने वाले को प्रधानमंत्री नहीं बनाएगें। गंगा भइया ने पहले बुलाया था, अब नाराज हो गई है, वह वापस उन्हें गुजरात भेजना चाहती है। उन्होने कहा कि पहले चायवाला बना फिर पिछड़ा और चैकीदार बन गए। उनके राज में गांव में छुटटा जानवर फसल खा रहे हैं। गोशाला में गायें भूखी मर रही है। 2 करोड़ रोजगार का वादा खोखला साबित हुआ। अब इनको कड़ी सजा देनी है।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।