फर्रुखाबाद - सावन मास में कांवर यात्राओं पर योगी और मोदी राज का असर साफ़ दिख रहा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 22 July 2019

फर्रुखाबाद - सावन मास में कांवर यात्राओं पर योगी और मोदी राज का असर साफ़ दिख रहा

रिपोर्ट - पुनीत मिश्रा

सावन मास में कांवर यात्राओं पर योगी और मोदी राज का असर साफ़ दिख रहा है. डीजे पर भोले के गीतों और भजनों पर भक्तों की थिरकन का अंदाज बता रहा है कि निजाम बदल चुका है| कांवड़ियों की ड्रेस में योगी बनियान और योगी अंगौछे की मांग सबसे ऊपर है और इसी कारण से योगी और मोदी बनियान अब पांचाल घाट के कांवर बाजार में शार्ट पड़ गयी हैं|हो न हो शिव भक्तों में योगी के गेरुआ रंग का जादू सिर चड़कर बोल रहा है| सीएम योगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद सावन के महीने (श्रवण मास) में शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा के दौरान  प्रशासन ने उत्तम व्यवस्था कर ली है 
 


 फर्रुखाबाद में पांचाल घाट पर एक माह तक कांवड़ मेला लगता है| हरदोई, शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी समेत कई जनपदों के शिव भक्त यहाँ से कांवर यात्रा शुरू करने आते हैं| सावन के पहले दिन से यहाँ का कांवर बाजार गुलजार हो जाता है| कांवड़ियों के लिए कई तरह के आइटम दुकानों पर सजे हैं| दुकानदारों ने कई महीने पहले से स्टाक करना शुरू किया था पर आखिर में योगी बनियान की इतनी मांग बढ़ी कि शार्ट पड़ गयी| योगी अंगौछे तो दुकानदारों ने कई रेंज के स्टाक किये हैं और मांग भी सबसे अधिक है| और रंगों के अंगौछे बिकना बंद हो गए हैं.भोले के रंग में रंगे कांवरिये इस बार कुछ नए जोश में हैं| डीजे पर बजने वाले गीतों पर हर उम्र के शिव भक्त जम कर थिरकते दिख रहे हैं. न तो डीजे को लेकर पुलिस परेशान कर रही है और न किसी और रोंक टोंक का डर है. भक्तों ने ऐसी स्वच्छन्न्द्ता कभी नहीं पायी। कांवड़िये पांचाल घाट से गंगा जल लेकर गोला गोकर्णनाथ तक पद यात्रा करते हैं. कांवर यात्रा में भक्त गण पूरी श्रद्धा के साथ झूमते हुए भोले के धाम पहुँचते हैं.

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।