कानपुर देहात - बिदायी , बैण्ड , बाजा , ओर बारात - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 11 July 2019

कानपुर देहात - बिदायी , बैण्ड , बाजा , ओर बारात

जिला संवादाता अरविन्द शर्मा 

 बेदर्द खाकी , ज़ालिम पुलिस की करतूत , पुलिस की गुंडागर्दी , पुलिस का नाम आते ही ज़हन में कुछ इसी तरह के सवाल उठते है लेकिन अब जो तस्वीर हम आपको दिखाएंगे उसे देख यकीनन आप चौक जाएंगे और आपकी विचारधार भी पुलिस के प्रति बदल जाएगी क्योंकि आज भी पुलिस विभाग में तमाम ऐसे पुलिस कर्मी है जो मित्र पुलिस के टैग को ज़िंदा करे है इसी की नज़ीर कानपुर देहात में देखने को मिली जहां ट्रांसफर होने के बाद एक थानाध्यक्ष को ऐतिहासिक बिदायी दी गयी थानाध्यक्ष बने दूल्हा ओर पूरे क्षेत्र में बैंड बाजे के साथ बारात निकाली गयी  बैंड बाजे की धुन पर नाचते लोग, शानो शौकत से जाती ये बारात ओर बग्घी पर विराजमान खाकी वर्दी पहने दूल्हा ये नज़ारा है कानपुर देहात ज़िले के मंगलपुर थाना क्षेत्र का जहां मंगलपुर थानाध्यक्ष तुलसीराम पांडेय का ट्रांसफर रसूलाबाद कोतवाली हो गया लिहाज़ा अपने चहेते अधिकारी को बिदायी एक दम नए अंदाज में दी गयी इंस्पेक्टर तुलसीराम पांडेय को दूल्हा बना कर बग्घी पर बैठाया गया
 


 शानदार बैंड मंगाया गया क्षेत्र की जनता बाराती बनी ओर पूरे क्षेत्र में बारात गुमायी गयी फूलो की वर्षा हुयी बैंड बाजे की धुन पर डांस हुआ यकीनन ये तस्वीरें लोगो को चकाचौंध कर देंगी क्योंकि खाकी का ज़िक्र होते ही ज़हन में गलत धारणा का प्रवेश हो जाता है तस्वीरे बयान कर रही है कि अगर जनता पुलिस को भला बुरा कहती है तो अच्छे ईमानदार छवि वाले अफसरों को चाहती भी बहुत है इंस्पेक्टर तुलसीराम पांडेय की तरह अगर पुलिस कर्मी कार्यशैली को अंजाम दे तो इस तरह की अनोखी बारात आये दिन देखने को मिलेंगी साफ है लोगो के दिलो में अपने चहेते थानाध्यक्ष के ट्रांसफर होने का दुख है लेकिन खुशी इस बात की है कि लगभग 1 साल तुलसीराम पांडेय ने मंगलपुर क्षेत्र के लोगो के साथ इंसाफ किया किसी के साथ अन्याय नही होने दिया लिहाज़ा जनता ने भी अनोखे अंदाज में तुलसीराम पांडेय को बिदायी दी ये बात दीगर है कि अगर ये तस्वीरें तुलसीराम पांडेय की धर्मपत्नी देख ले ओर उन्हें वास्तविकता का ज्ञान ना हो तो आदरणीय तुलसीराम जी की जान ज़हमत में पड़ सकती है और उन्हें दूसरी बार दूल्हा बनने का खामियाज़ा भी भुगतना पड़ सकता है

No comments:

Post a Comment