बाराबंकी - डॉ उदय प्रताप सिंह ने शिक्षा जगत को दिया एक नया तोहफा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 28 July 2019

बाराबंकी - डॉ उदय प्रताप सिंह ने शिक्षा जगत को दिया एक नया तोहफा





ब्यूरो चीफ योगेश तिवारी

  बी एड पाठ्यक्रमों पर आधारित  विज्ञान की दो पुस्तकों को किया लिपिबद्ध प्रमुख शिक्षाविद इरम कॉलेज मेलाराय गंज के प्राचार्य ने बी एड पाठ्यक्रम पर आधारित दो पुस्तकें विज्ञान शिक्षण एवं जीव विज्ञान शिक्षण लिख कर के शिक्षा जगत को एक नया आयाम प्रदान किया है जो आने वाले समय में बी एड के लिए मील का पत्थर साबित होगी बताते चलें कि शिक्षा के क्षेत्र में इरम कालेज मेलारायगंज के  प्रमुख शिक्षाविद व प्राचार्य डॉ उदय प्रताप सिंह का अविस्मरणीय योगदान रहा है उन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय के   बी एड पाठ्यक्रम पर आधारित  2 पुस्तके  विज्ञान शिक्षण एवं जीव विज्ञान शिक्षण नामक दो पुस्तकें  करके शिक्षा जगत को एक नया आयाम प्रदान किया है ये आने वाले समय में शिक्षा जगत के बीएड छात्रों व शिक्षकों के लिए मील का पत्थर साबित होगी उन्होंने बताया कि गुरु जन बाबा दादी माता-पिता एवं अग्रजो के आशीर्वाद से लेखन क्रम में  लखनऊ विश्वविद्यालय के बीएड पाठ्यक्रम पर आधारित मेरी दो पुस्तकें विज्ञान शिक्षण एवं जीव विज्ञान शिक्षण प्रकाशित हुई है जो भावी शिक्षकों व बीएड छात्रों के लिए ज्ञानवर्धक सिद्ध होगी। इससे पूर्व उन्होंने बीएड पाठ्यक्रम पर आधारित प्रथम वर्ष के प्रथम प्रश्न पत्र ज्ञान एवं पाठ्यक्रम तथा  तथा द्वितीय प्रश्न पत्र अधिगम एवं विकास का मनोविज्ञान तथा उत्तर  प्रदेश डीएलएड बीटीसी के द्वितीय सेमेस्टर के लिए प्रारंभिक शिक्षा के नवीन प्रयास तथा बी एल एड के लिए अधिगमकर्ता का बोध एवं विकास नामक दो पुस्तकें लिखकर डीएलएड एवं बी एल एड के छात्रों को एक नया तोहफा प्रदान किया था श्री सिंह के इस योगदान की बुद्धिजीवी वर्ग के लोगों अध्यापकों एवं प्रमुख शिक्षाविदों ने भूरि भूरि प्रशंसा करके उन्हें मुबारकबाद दिया है ।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।