बस्ती -एक ही मंडप में 43 जोड़े की हुई शादी - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 18 August 2019

बस्ती -एक ही मंडप में 43 जोड़े की हुई शादी



जिला -संवाददाता बस्ती 


जनपद के सल्टौआ ब्लाक परिसर में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत 43 जोड़े शादी के बंधन में बंध गये 40 जोड़े हिन्दू रीतिरिवाज एवं 3 जोड़ो का निकाह कराया गया। जिला कल्याण अधिकारी रमाशंकर यादव के निर्देशन व प्रमुख अशोक कुमार मिश्र की अध्यक्षता में सुबह से ही तैयारियां शुरू  कर दी गई थी। महिलाएं मांगलिक गीत गाकर नवदंपतियों के जीवन की मंगल कामना की, वतौर मुख्य अतिथि संजय प्रताप जायसवाल ने मां गायत्री के चित्र पर पुष्प अर्पित व दीप प्रज्जवलित कर किया। सभी जोड़ो को उपहार व पुष्प वर्षा कर आशीर्वाद दिया संबोधन में कहा खर्चीली शादियों पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से सरकार ने यह योजना शुरू की,ऐसा आयोजन समाजिक सद्भाव बढ़ाने की दिशा में सरकार का महत्वपूर्ण कदम है बेटी बचाव बेटी पढ़ाओ का नारा सार्थक हो रहा है। ब्लाक प्रमुख  ने सामूहिक विवाह में समाज के लोगों को सहयोग करने की अपील की,बेटी को बोझ न समझे शादी में अनावश्यक खर्च से बचने की सलाह दी।



कार्यक्रम के अंत में

समारोह में शामिल सभी दंपतियों को सरकार की ओर से 51-51 हजार रुपये की सहायता विभिन्न मदों में दी गई। नव वधुओं के खातों में 35-35 हजार रुपये भेजने का प्रबंध। साथ ही दस हजार रुपये का गृहस्थी का सामान और छह हजार रुपये में प्रत्येक दंपति के घरवालों और मेहमानों के लिए खानपान की व्यवस्था की गई। दंपतियों को विभाग की ओर से एडीओ समाज कल्याण तिलकराम चौधरी के देखरेख में एक जोड़ी कपड़ों का सेट, साड़ी, चांदी की पायल, बिछिया, कुकर, मोबाइल सेट, के साथ ही, आम, सहजन के पौधे भी भेंट किये गये।इस अवसर पर विनोद कुमार पांडेय,  चंद्रभान गुप्त, इंद्रसेन उपाध्याय,राम नयन पांडेय,रामनेवास गिरी, विनोद कुमार राजभर,पप्पू सिंह,रंगीलाल, महेंद्र तिवारी, मनोज सिंह रधुवंशी, कृपाशंकर श्रीवास्तव, राहुल पांडेय,प्रशांत खरे, राजेश पांडेय,अजय श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।