कन्नौज-कई गायों को गोपनीय तरह से गया दफनाया - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 18 August 2019

कन्नौज-कई गायों को गोपनीय तरह से गया दफनाया


रिपोर्ट- मोबीन मन्सुरी  

मामला यूपी के कन्नौज का है। जहाॅ एक गांव में बनी गौशाला में गाय की सही देखभाल न होने के कारण गाय बीमार होकर मर रही है और मृतक गायों को वही खेतों में गड्ढा खोदकर गोपनीय तरीके से दफना दिया जा रहा है इसकी सूचना जिला प्रशासन के आलाधिकारियों तक नही दी जा रही है। जब एक मामला सामने आया तो जिलाधिकारी ने जाॅच के बाद मामला सही पाने पर जिम्मेदार सेकेट्री को निलंम्बित कर दिया।

कन्नौज की छिबरामऊ तहसील क्षेत्र अन्तर्गत ग्राम फरीदपुर में सरकार ने एक बड़ी गौशाला स्थापित की है। जिसमें करीब 29 गाय इस समय मौजूद है। लेकिन इन गाय की देखरेख करने वालों की लापरवाही दिन पर दिन बढ़ती जा रही है जिसकी बजह से आये दिन गाय बीमार होकर मर रही है। जिसके बाद मामला चैंका देने वाला सामने आया। मरने वाली गायों को कोई जान न सके इसलिए चुपचाप गायों को गोपनीय तरह से जेसीबी द्वारा गहरा गड्ढा खुदवाकर मरी हुई गायों को उसमें दफना दिया जा रहा है। इस मामले की शिकायत जिलाधिकारी से की गयी तो मामला उजागर हो गया। जिलाधिकारी ने जाॅच के बाद यह पाया कि अभी हाल में एक मरी हुई गाय को इसी तरह से गड्ढा खोदकर दफनाया गया है। जिसकी जाॅच के बाद उसी खड्ढे को खुदवाया गया तो मामला सही पाया गया। जिसके बाद जिलाधिकारी द्वारा मौके पर उपजिलाधिकारी गौरव शुक्ला को इस मामले की जाॅच में दोषी लोगों के खिलाफ कार्यवाही के आदेश दिये गये।

जाॅच के दौरान जिलाधिकारी के आदेश पर उपजिलाधिकारी छिबरामऊ गौरब शुक्ला ने गौशाला से सम्बन्धित लापरवाही का दोषी सेकेट्री कौशलेंद्र सिंह को मानते हुए उसको निलंम्बित कर दिया है। लेकिन सबसे बड़ी लापरवाही आज भी है कि आखिर इस तरह से गौशालाओं में लापरवाही क्यों हो रही है। जबकि मुख्यमन्त्री के सख्त आदेश है। इसके बावजूद गायों की देखरेख में लापरवाही बरती जा रही है। 

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।