काशी पत्रकार संघ सहित अन्य श्रमिक संगठनो,ट्रेड यूनियनो ने किया प्रदर्शन - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 27 September 2019

काशी पत्रकार संघ सहित अन्य श्रमिक संगठनो,ट्रेड यूनियनो ने किया प्रदर्शन


 ब्यूरो- कैलाश सिंह विकास

श्रम कानूनो मे केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा संसोधन कर के देश भर के श्रमिको का हाथ कटने की साजिश रचने,मजदूरो को वर्षो पुर्व से भारत के संबिधान मे प्रदत्त कानूनी अधिकारो को समाप्त करने,केंद्र व राज्य सरकारो द्वारा श्रमिको को पूजीपतियो के हाथो गिरवी रखने की साजिश करते हुये श्रमिको को बधुवा मज़दूर बनाये जाने, सुप्रिम कोर्ट द्वारा पारित आदेश मजीठिया बेज बोर्ड की संस्तुतियो को मीडिया संस्थानो मे अब तक लागू न कराये जाने, सुप्रिम कोर्ट के आदेश के बाद भी आज तक न्यायालयो मे पत्रकारो व गैर पत्रकारो के मुकदमो का निस्तारण न कराये जाने,,देश भर के इलेक्ट्रानिक मीडिया को भी बेज बोर्ड मे शामिल करने आदि मुद्दो के साथ ही केंद्र व राज्य सरकार की श्रम बिरोधी नीति के खिलाफ गुरुवार 26 सितम्बर को पूर्वाह्न 11 बजे नाटी ईमली स्थित अपर श्रम आयुक्त कार्यालय परिसर मे समाचार पत्र कर्मचारी यूनियन,काशी पत्रकार संघ सहित अन्य श्रम संगठनो, श्रमिक यूनियनो के नेतृत्व मे धरना प्रदर्शन व सभा करने के बाद राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोबिद को सम्बोधित ज्ञापन अपर श्रम आयुक्त मधुर सिंह को ज्ञापन सौपा। प्रदर्शन मे प्रमुख रुप से काशी पत्रकार संघ के राजनाथ तिवारी,मनोज श्रीवास्तव,सुबाष सिंह,अत्रि भरद्वाज,विकास पाठक, योगेश गुप्ता,असद कमाल लारी,कमलेश चतुर्वेदी,समाचार पत्र कर्मचारी यूनियन के मंत्री एडवोकेट अजय मुखर्जी, आशीष टंडन,जयराम पान्डेय,एटक के नेता ,सन्तोष सिंह,आदि ने सम्बोधित किया। अध्यक्षता राजनाथ तिवारी तथा संचालन प्रदीप सिंह ने किया। इस अवसर पर सैकड़ो पत्रकार व गैर पत्रकार तथा श्रमिक संगठनो के लोग उपथित थे।                                                                     

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।