पत्रकारों की हुई कोविड-19 स्क्रीनिंग - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 27 April 2020

पत्रकारों की हुई कोविड-19 स्क्रीनिंग

 
कैलाश सिंह विकास

 पत्रकारों की हुई कोविड-19 स्क्रीनिंग

वाराणसी, 27 अप्रैल, 2020। कोविड-19 महामारी के मद्देनजर काशी पत्रकार संघ व वाराणसी प्रेस क्लब के तत्वाधान में आज पराड़कर स्मृति भवन में पत्रकारों के स्वास्थ्य की जांच हुई। लगभग 100 से अधिक पत्रकारों थर्मल स्केनिग के संग हार्ट, बीपी आदि की भी जांच हुई। इस दौरान कोरोना का कोई संदिग्ध मरीज नहीं मिला। इस अवसर पर पत्रकारों को इम्युनिटी बूस्टर व रोग प्रतिरोधक दवाओं संग जैसे विटामिन सी,  जिंक आदि की गोलियां व होमियोपैथिक की दवाएं भी वितरित की गयी। साथ ही उन्हें सेनिटाइजर व माक्स भी वितरित किया गया। इस अवसर पर प्रदेश के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा॰ नीलकंठ तिवारी भी मौजूद थे। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने पराड़कर स्मृति भवन पहुँच कर पत्रकारों के लिए चल रहे स्वास्थ्य शिविर का निरीक्षण किया। उन्होंने नीबू पानी लेने पर जोर दिया व बाटी गयी होम्योपैथी की दवा को तीन दिन लेने की सलाह दी गयी। 
इस अवसर पर डॉक्टरों की टीम संग खुद सीएमओ डॉक्टर वी॰ बी॰ सिंह व एसीएमओ डा॰ संजय राय मौजूद रहे। इसके पूर्व संघ के अध्यक्ष राजनाथ तिवारी, महामंत्री मनोज श्रीवास्तव व कोषाध्यक्ष जितेंद्र श्रीवास्तव की थर्मल स्कैनिंग कर जांच शुरू की गयी। तत्पश्चात डॉक्टरों की दो टीमों में शामिल डा॰ निधि गुप्ता, डा॰ क्षितिज तिवारी, डा॰ सौरभ सिंह, डा॰ राजेश सिंह, डा॰ दीपक सिंह, डा॰ संतोष कुमार यादव, डा॰ विष्णु पाण्डेय ने पत्रकारों जांच की। इस अवसर पर रेडक्रॉस सोसायटी के सचिव डॉक्टर संजय राय, डॉक्टर क्षितिज, डाक्टर प्रीति यादव, डॉक्टर एस एस गांगुली, संघ के पूर्व अध्यक्ष विकास पाठक के अलावा डॉक्टर लोकनाथ पांडेय, देवकुमार केशरी, वीरेंद्र श्रीवास्तव, विनय सिंह, सौरभ अग्रवाल, रोहित चतुर्वेदी, सुनील शुक्ला आदि मौजूद थे। 


No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।