सीएचसी पर नहीं है रैबीज का टीका डाक्टर ने मरीजों को लौटाया - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

Tahkikat News App

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 1 April 2020

सीएचसी पर नहीं है रैबीज का टीका डाक्टर ने मरीजों को लौटाया

 राजित राम यादव 

बस्ती। परशुरामपुर विकास क्षेत्र के करीब आधा दर्जन लोग रैबीज के संक्रमण के खतरे से दहशत में है।पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी डा भाष्कर यादव का कहना है कि हमारे यहां इंजेक्सन नहीं है । ऐसे में दवा मंगाने के बाद ही टीका लग पायेगा । परशुरामपुर विकास क्षेत्र के नागपुर , सलेमपुर , बेलभरिया , चांदा चौबे , अरजानीपुर के करीब 10 लोगों को कुत्ते के काटने से इंफेक्शन का खतरा बना हुआ है । वहीं जब वह सभी सीएचसी पर पहुंचकर रेबीज का टीका लगाने के लिये चिकित्सक से बोले तब चिकित्सा अधीक्षक द्वारा दूसरे दिन आने को कहकर टाल दिया गया और बताया कि टीका नहीं है मंगाना पड़ेगा। 
वहीं सूत्रों की माने तो अस्पताल में रेबीज का इंजेक्शन मौजूद है पर स्वास्थ्य कर्मी चिकित्सक की बात की अवहेलना कैसे करें । जब इसकी शिकायत पीड़ितों ने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट हर्रैया से की तब डॉक्टर ने कहां की इंजेक्शन की व्यवस्था कराई जा रही है । पर एक घंटे तक मरीजों को बैठाने के बाद दूसरे दिन आने को कह कर घर भेज दिया गया । टीका न लगने से लोगों में दहशत का माहौल है । अरजानीपुर निवासी विष्णु देवी , अरविन्द , अंकित , अनीता , कमलेश , शिवा का कहना है कि कुछ दिन पहले उनकी भैंस को पागल कुत्ते ने काट लिया था और एक दिन पहले इंफेक्सन के चलते भैंस पागल हो गयी व उसकी मौत हो गई । उसके दूध का सेवन हमारे पूरे परिवार ने किया है इसलिए इंफेक्शन का खतरा बना हुआ है। वहीं अन्य गांव के लोगों ने बताया कि एक दिन पहले क्षेत्र में घूम रहे पागल कुत्ते ने कांटा है । लेकिन लाक डाउन के चलते हम लोग जिला स्तरीय अस्पतालों में नहीं पहुंच पा रहे हैं । वहीं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर टीका उपलब्ध होने के बाद भी डॉक्टर द्वारा नहीं लगाया जा रहा है।


No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।