शराब की दुकान खोलकर गरीबों पिछड़ो के साथ धोखा-ओमप्रकाश राजभर - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 4 May 2020

शराब की दुकान खोलकर गरीबों पिछड़ो के साथ धोखा-ओमप्रकाश राजभर

लखनऊ ब्यूरो

शराब की दुकान खोलकर गरीबों पिछड़ो के साथ धोखा-ओमप्रकाश राजभर

लखनऊ । उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री व राष्ट्रीय अध्यक्ष सुभासपा  ओमप्रकाश राजभर ने शराब की दुकान को खोलने पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त किया है जहां गरीब दाने-दाने के लिए परेशान है श्री राजभर ने कहा सबका साथ-किसका विकास के नाम पर सिर्फ गरीबों का शोषण हो रहा है माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश की सरकार ने आईएएस पीसीएस की निशुल्क कोचिंग योजना से ओबीसी वर्ग को बाहर का रास्ता दिखा सबसे ज्यादा पिछड़े वर्ग के नौजवान की कट्टर हिंदू बनने के लिए बेताब रहते हैं ओबीसी ने भाजपा की सरकार बनवा दिया आज भाजपा का कोई भी पिछड़े वर्ग का मंत्री विधायक सांसद नेता पिछड़ों के साथ हो रहे अन्याय के खिलाफ नहीं बोल रहा है अगर ऐसा ही रहा तो पिछडो को हिंदू बनाने की आड़ में उच्च वर्गों के बच्चों को बनने के लिए व्यवस्था होता रहेगा और पिछड़े वर्ग के नौजवान चपरासी बनने लायक नहीं रह पाएंगे जबकि हम हमेशा आईएएस पीसीएस की निशुल्क कोचिंग सभी वर्गों को दिलाने के लिए लड़ते रहे हैं मैंने 2017-18 में मेरे कार्यकाल में एक प्रस्ताव मा. मुख्यमंत्री जी को कैबिनेट की बैठक में दिया था जिसमें यूपी के 16 मंडलों में आईएएस पीसीएस कोचिंग व्यवस्था किए जाने का था लेकिन कुछ लोग समझ नहीं पाए श्री राजभर ने कहा पिछडो तुम याद रखना तुम्हारे हक अधिकार के लिए कोई भी पिछड़े वर्ग का नेता नहीं बोलेगा लेकिन मैं ईट से ईट बजा दूंगा गरीबों का शोषण करने के लिए शराब की दुकान खोली जा रही है गरीबो का यदि भला चाहते हैं प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री तो उत्तर प्रदेश में शराब पूर्ण रूप से बंद करें गरीबों का शोषण करने के लिए शराब की दुकानें खोली जा रही हैं गरीबों का यदि भला चाहते हैं माननीय प्रधानमंत्री व माननीय मुख्यमंत्री जी तो उत्तर प्रदेश में शराब पूर्ण रूप से बंद करें शराब की बिक्री के लिए सरकार ने जो फैसला लिया है वह गरीबों को अंधकार में धकेलने की तैयारी है सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी मांग करती है सरकार शराब बेचने का फैसला वापस ले यह गरीबों को बर्बाद करने के लिए फैसला है पीएम केयर फंड में विधायक निधि सांसद निधि व वेतन में कटौती के साथ खरबो रुपया तमाम दबाव व भावनात्मक अपील के बाद जमा हुआ है उसका क्या होगा? सरकार शराब की बिक्री कर घरेलू हिंसा बढ़ाने का दावत क्यों दे रही है क्या सरकार अब गरीबो के रुपयों से कोरोना महामारी से लड़ाई लड़ेगी जबकि गरीब खाद सामग्री बगैर मर रहा है उसके लिए सरकार कोई योजना नहीं बना रही सिर्फ कागजों पर बट रहा है ।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।