पर्दे के आड़ में चल रहे चाय और समोसे की दुकान पुलिस बनी है मूकदर्शक - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 23 May 2020

पर्दे के आड़ में चल रहे चाय और समोसे की दुकान पुलिस बनी है मूकदर्शक

राकेश सिंह गोंण्डा 

पर्दे के आड़ में चल रहे चाय और समोसे की दुकान पुलिस बनी है मूकदर्शक

गोण्डा। सरकार कितना भी पुलिस को जिम्मेदार ठहरा दे लेकिन जिम्मेदार ही नियम व कानून की धज्जियां तोड़ने में पूरी तरह से संलिप्त हैं 

कोरोना महामारी में लोगों को सुरक्षित रखने के लिए शासन द्वारा तरह तरह के नियम बताया जा रहा है लेकिन जो जिम्मेदार हैं वही अपने फायदे के चक्कर में नियम की धज्जियां उड़ा रहे हैं प्रधानमंत्री महोदय द्वारा कोरोना महामारी के चलते पूरे देश में लाक डाउन घोषित कर दिया है परंतु जनपद गोंडा के थाना इटियाथोक के पुलिस के नाक के नीचे सोशल डिस्टेनिंग व सरकार के आदेशों के धज्जियां उड़ाई जा रही है सूचना पाकर के भी पुलिस मूकदर्शक बनी है बताते चलें जनपद गोंडा के थाना इटियाथोक में थाने से चंद कदम की दूरी पर गिरिजा पांडे नाम का व्यक्ति चाय का होटल चला रहा है जबकि सरकार द्वारा निर्देशित किया गया है तथा जिलाधिकारी महोदय द्वारा वितरण सामग्री वह दिन निर्धारित कर दिया गया है परंतु थाने के चंद कदम पर चाय की दुकान धड़ल्ले से चल रही है जहां पर चाय समोसा आदि चीजें बेची जा रही हैं बाहर से  नीली डार्क  रंग पन्नी का पर्दा लगा हुआ है मौके पर देखा जाए तो इस भीड़ में दो चार पुलिसकर्मी भी नजर आएंगे जिसकी सूचना थानाध्यक्ष इटियाथोक को कई बार दिया गया लेकिन थानाध्यक्ष महोदय के कान में जूं तक नहीं रेंग रहा है अब पता नहीं थानाध्यक्ष महोदय द्वारा ही लोगों को छुआछूत का आमंत्रण दिया जा रहा है या खुद ही उस में संलिप्त हैं होटल तो होटल है यहां तो ट्रांसपोर्ट की दुकान भोला जायसवाल जो कि लोहे वा बर्तन के दुकान पर भी सोशल दिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा रहे हैं अभी देखना है क्या शासन इस होटल व थानाध्यक्ष पर लगाम लगा सकती है या नहीं

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।