बुढ़ापे के सहारे ने किया बेसहारा... जमकर ढाए सितम.. सड़को पर गुजर रहा बुढ़ापा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

Tahkikat News App

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 26 June 2020

बुढ़ापे के सहारे ने किया बेसहारा... जमकर ढाए सितम.. सड़को पर गुजर रहा बुढ़ापा

अरविन्द शर्मा  कानपुर देहात 

 बुढ़ापे के सहारे ने किया बेसहारा..... जमकर ढाए सितम..... सड़को पर गुजर रहा बुढ़ापा.....

कानपुर । जहा लोग माँ-बाप को धरती का भगवान कहते है और उनकी पूजा करते है। वहीं दूसरी ओर बच्चे अपने माता पिता के बुढ़ापे की लाठी और सहारा कहे जाते है। लेकिन यूपी के जनपद कानपुर देहात में एक कलयुगी बेटे की करतूत ने बूढे माता पिता के सपनों को तोड़ते हुए ऐसी कहानी लिखी जिसको देखकर और सुन कर सभी की आँखे नम हो जाएगी। दरअसल कलयुगी बेटे ने अपनी पत्नी के साथ मिलकर अपने माता पिता के साथ जमकर मारपीट की। यहीं नहीं इस कलयुगी बेटे ने अपनी पत्नी के साथ माँ बाप को यातनाओ देने की हद ही पर कर दी। जिसके बाद परेशान पीड़ित माता पिता घर के बाहर जीवन यापन कर रहे है। काफी दिनों से भूखे ये बूढ़े मां बाप को पड़ोसियों का सहारा मिला। पड़ोसियों ने उन्हें खाना खिलाया। जिसके बाद पीड़ित बूढ़े माता-पिता अपने कलयुगी बेटे और बहू के कारनामों और न्याय की जुहार लेकर जिलाधिकारी के दर पर पंहुचे। जहा अधिकारियों ने मामले की जांच कराकर शीघ्र कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं।
जहा हर बच्चे अपने माँ बाप को भगवान के रूप में देखते है।जो बचपन से ही हर छोटी से बड़ी चीज़ों को एक जिद्द पर अपनी परेशानियों को भुलाकर पूरी करते है। माँ बाप का भी सपना होता है कि उनके बच्चे बुढ़ापे का सहारा होंगे। लोगो को यह भी आस होती है कि बुढ़ापे में जहाँ उनका शरीर कमजोर हो जाएगा। वहीं उनके पुत्र उनकी बुढ़ापे की लाठी बनेगे। लेकिन इसकी उलट तस्वीर यूपी के जनपद कानपुर देहात के भोगनीपुर कोतवाली क्षेत्र के पुखरायां कस्बे में देखने को मिली। जहा एक बृद्ध दंपति अपने शिक्षक पुत्र और उसकी पत्नी की यातनाओ से परेशान हो कर आज सड़को पर रहने को मजबूर है। यहीं भूख मिटाने के लिए आस-पास के लोगो से मद्दत लेनी पड़ रही। यदि पड़ोसियों ने खाना दिया तो भूख मिट गई नहीं तो भूखे सोने पड़ रहा है। कई दिनों की इस जद्दोजहद के आज पीड़ित बृद्ध न्याय मांगने के लिए खुद जिले के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक के पास पहुच गए। और अपनी आप बीती बताई। जिसके बाद जिले के आलाधिकारियों ने मामले की जांच कर कार्यवाही करने के निर्देश दिए है।
पीड़ित बुजुर्ग कमलेश कुमार का कहना है कि उनका बेटा एक सरकारी अध्यापक है और रसूलाबाद ब्लाक में कार्यरत है। वे भी शिक्षक रहे है। उन्होंने पुखरायां में एक मकान बनाया और बेटे सोमिल की परवरिश कर उसको बढ़ा किया। उसकी शादी की और उसकी नौकरी लगवाई। उन्हें आशा थी कि उनका बेटा उनके बुढ़ापे का सहारा बनेगा। लेकिन अब उसने अपनी पत्नी के साथ मिलकर हम दोनों को मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया। हम हार्ड के पेशेंट भी है।पत्नी को लेकर इधर उधर घूम रहे है। कोई सहारा नही है बुढ़ापे में इस लिए आज हम खुद जिलाधिकारी के ऑफिस न्याय मांगने आए है।
पीड़ित बूढ़े माता पिता की फरियाद सुनकर जिले के आलाधिकारियों ने मामले की जांच कर कार्यवाही के निर्देश दिए है। अपर जिलाधिकारी प्रशासन ने बताया कि यह दोनों बुजुर्ग आए थे। उन्होंने अपने बेटे और बहू पर यातनाएं देने का आरोप लगाते हुए शिकायत की है। जिसको देखते हुए उपजिलाधिकारी भोगनीपुर को मामले की जांच कर कार्यवाही के निर्देश दिये गए है। पीड़ित बुजुर्गों को न्याय दिलाया जाएगा और दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।