कानपुर : बिना अनुमति हो रहा निर्माण सामग्री का भंडारण जिम्मेदार अधिकारी जानकर बने अंजान - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 21 June 2020

कानपुर : बिना अनुमति हो रहा निर्माण सामग्री का भंडारण जिम्मेदार अधिकारी जानकर बने अंजान

ब्यूरो कानपुर देहात:अरविन्द शर्मा

बिना अनुमति हो रहा निर्माण सामग्री का भंडारण जिम्मेदार अधिकारी जानकर बने अंजान


शासन की तय गाइडलाइंस के आधार पर नहीं हो रहा कारोबार प्रमुख मार्गों पर नियम का उल्लंघन कर कारोबार जारी

कानपुर देहात जनपद में मौरग से लदे ओवरलोड वाहन प्रमुख मार्गों पर खनन एआरटीओ पुलिस व स्थानीय तहसील प्रशासन की आंखों में धूल झोंक कर शासन के नियमों का उल्लंघन कर मौरंग गिट्टी विक्रय का कारोबार कर रहे हैं वहीं ना तो ट्रकों के संचालको द्वारा संबंधित शासन की व्यवसाइड में अपना पंजीकरण कराया है और ना ही विक्रय करने वाले भवन निर्माण सामग्री विक्रेता ने भी अपना व्यवसायिक रजिस्ट्रेशन कराया है ज्यादातर प्रमुख सड़कों के किनारे सरकारी भूमि पर बिना किसी के अनुमति लिए गिट्टी मौरंग इत्यादि का भारी मात्रा में भंडारण कर रहे हैं जबकि सरकार ने भवन निर्माण संबंधी सामग्री जैसे मोरंग गिट्टी बालू डस्ट के भंडारण में निर्धारित मात्रा ने की है जिसका समुचित डाटा खनन विभाग के पास उपलब्ध है लेकिन इससे कई गुना ज्यादा भवन सामग्री विक्रेता मौरंग डंपिंग का कारोबार कर आमजन लोगों से मनमाने दामों में मौरंग विक्रय करने का खेल कर रहे हैं इस मामले में जिम्मेदार विभाग पूर्ण रूप से अंजान हैं जबकि भंडारण खुलेआम देख रहे हैं और ओवरलोड ट्रकों का भी दिन-रात संचालन जारी है यही नहीं बिना रजिस्टर्ड ट्रक भी मोरम गिट्टी का कारोबार कर रहे हैं और तो और बिना रवंन्ना के मौरंग विक्रय का भी काम हो रहा है किंतु इस मामले में जिम्मेदार अधिकारी ऐसे माफियाओं पर नकेल कस कार्रवाई करने में पीछे हट रहे हैं जबकि प्रमुख सड़कों पर ऐसे कारोबार से लोगों को भारी असुविधा भी हो रही है

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।