अपहरण की इस घटना में 9 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस का कोई अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नही है - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 26 July 2020

अपहरण की इस घटना में 9 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस का कोई अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नही है

ब्यूरो कानपुर देहात:अरविन्द शर्मा

अपहरण की इस घटना में 9 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस का कोई अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नही है

कानपुर । यूपी में एक बाद एक अपहरण का मामला सामने आ रहा हूं अभी कानपुर संजीत यादव की अपहरण के बाद हत्या फिरौती का मामला ठंडा ही नही हुआ था । की वही दूसरी तरफ कानपुर देहात में ब्रजेशपाल लड़के  का अपहरण हो गया।  परिजनों का आरोप है उनके लड़के का अपहरण कर लिया गया है और अपहरणकर्ताओं ने 20 लाख की फिरौती की मांग की है वही जैसे परिजनों को बेटे के अपहरण की बात पता लगती वैसे परिजन पुलिस से गुहार लगाते है । आज पूरे 9 दिन बीत गए है तभी पुलिस के हाथ पूरी तरह से खाली है और पुलिस इस मामले में कुछ भी बोलने से बच रही है ।


यूपी के कानपुर देहात भोगनीपुर कोतवाली क्षेत्र के चौरा गाँव स्तिथ नेशनल धर्मकांटे पर काम करने वाले ब्रजेश पाल का 16 जुलाई की बीतीरात को धर्मकांटे से अपहरण हो गया। वही परिजनों को जब बेटे के गायब होने की जानकारी लगी तो परिजनों ने बेटे ब्रजेश के मोबाइल नम्बर को कई बार फोन  लगाया पर ब्रजेश का नम्बर नही लगा। परिजनों के अनुसार 17 जुलाई को ब्रजेश के ही नम्बर से फोन आया और कहा गया  तुम्हारा बेटा ब्रजेश मेरे कब्जे में है । 20 लाख दो और बेटा लो  । अपहतकर्ताओ ने 20 लाख की फिरौती 5 दिन के अंदर मांगी और पुलिस को बताने पर ब्रजेश को जान से मार देने की धमकी भी दी । वही परिजनों का रो रोकर बुरा हाल है । इस  अपहरण कांड में सबसे बड़ी बात तो ये है कि रात को ब्रजेश धर्मकांटा से अंडर वियर और बनियान में गायब तो हुआ धर्मकांटे के गेट में ताला भी बंद था जबकि ब्रजेश पाल धर्मकांटे के अंदर ही लेटा था । इस दौरान जो गेट के बाहर दो लोग लेटे थे उनको भी भनक तक नही लगी । इस घटना से ये साफ होता है कि ब्रजेश को सोते से कोई परिचित जगाकर ले गया है बाकायदा ताला भी बंद किया धर्मकांटे और ब्रजेश के पकीसे वैसे ही वही उसके कपडे में मौजूद थे पर ब्रजेश गयाब हो गया था अपहरण के बाद पुलिस लगातार छानबीन करने में जुटी हुई है  
वही अपहरण की इस घटना में 9 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस का कोई अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नही है

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।