गोण्डा : कोटेदार की सिक्योरिटी मनी लेकर फरार हो जाती है संस्था - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 13 July 2020

गोण्डा : कोटेदार की सिक्योरिटी मनी लेकर फरार हो जाती है संस्था

राकेश सिंह गोंडा

गोंडा में दाल व चीनी के नाम पर हो रही ठगी कोटेदार की सिक्योरिटी मनी लेकर फरार हो जाती है संस्था

बाराबंकी में 1000 कोटेदारों के सिक्योरिटी मनी लेकर फरार हो चुकी है यह संस्था।

दुर्गा बक्श वूमेन वेलफ़ेयर सोसायटी अब गोंडा में बनी इंटरप्राइजेज

इस संस्था पर दर्ज है बाराबंकी में मुकदमा

गोंडा में इन दिनों दुर्गा बक्श सिंह इंटरप्राइजेज नाम की संस्था दाल व चीनी देने के नाम पर फर्जीवाड़ा कर रही हैं। गरीब मजदूरों को सस्ते दामों पर दाल व चीनी देने के नाम पर पैसा वसूल रही है तथा गरीबों को अनाज सप्लाई करने के लिए बेरोजगारों को लंबे-लंबे सपने दिखाकर कोटेदार बनाने का झांसा दे रही  है।  कोटेदार बनाने के लिए  बेरोजगारों से मोटी रकम बतौर सिक्योरिटी जमा करवाई जाती है। एक दो बार राशन देने के बाद संस्था बेरोजगारों की सिक्योरिटी लेकर फरार हो जाती है गौरतलब है कि दुर्गा बक्श सिंह इंटरप्राइजेज के डायरेक्टर सुशील सिंह व सुनीता सिंह इससे पहले बाराबंकी में काम करते थे उस समय दुर्गा बक्श सिंह वूमेन वेलफेयर सोसाइटी के नाम पर 50 करोड़ की ठगी की थी इस मामले में बाराबंकी के हैदरगढ़ कोतवाली में मुकदमा भी दर्ज है मामले की जांच आर्थिक अपराध शाखा कर रही है। बाराबंकी में इस संस्था का कार्यालय तथा बैंक खाता भी सीज किया जा चुका है इन दिनों बाराबंकी में कोटेदार अपना पैसा वापस लेने के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं। भारतीय राष्ट्रीय मजदूर संगठन के युवा मंडल अध्यक्ष धर्मेंद्र यादव ने बताया कि बाराबंकी में भंडा फूटने के बाद यह कंपनी अब गोंडा में अपना पांव जमा रही है। नवाबगंज के तुलसी पुर क्षेत्र में संस्थान ने कई दर्जन कोटेदार बना लिए हैं जिसकी सूचना जिलाधिकारी को दे दी गई है। आने वाले समय में संगठन लोगों के साथ बैठक करेगा। बबलू यादव का कहना है कि सिक्योरिटी मनी का निवेश कहां किया गया है यह एक राज होता है इसके अलावा दुर्गा बक्श एंटरप्राइजेज एक कंपनी है । जिसे कोई भी आय फंड नहीं मिल सकता ।  जाहिर है कि 1000 व 500 कोटेदार बनाने के बाद कोटेदारों की सिक्योरिटी मनी लेकर संस्था फरार हो जाती है।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।