अप्रशिक्षित मेडिकल स्टोर संचालक व झोलाछाप डॉक्टर लोगों की जिंदगी के साथ अवैध कमाई के चक्कर में कर रहे हैं खिलवाड़ - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 5 September 2020

अप्रशिक्षित मेडिकल स्टोर संचालक व झोलाछाप डॉक्टर लोगों की जिंदगी के साथ अवैध कमाई के चक्कर में कर रहे हैं खिलवाड़

राकेश सिंह गोण्डा 


अप्रशिक्षित मेडिकल स्टोर संचालक व झोलाछाप डॉक्टर लोगों की जिंदगी के साथ अवैध कमाई के चक्कर में कर रहे हैं खिलवाड़

 गोण्डा। अप्रशिक्षित लोगों द्वारा मेडिकल स्टोर खोलकर आम आदमी के जीवन के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। यहां दवा के नाम पर ज़हर बेचा जा रहा है।

मनकापुर क्षेत्र का पीलखाना एरिया अवैध रूप से संचालित मेडिकल स्टोरों का गढ़ बन गया है। क्षेत्र में बड़ी संख्या में बग़ैर वैध लाइसेंस के मेडिकल स्टोर खोल लिए गए हैं जिन अप्रशिक्षित एवं बगैर डिग्री के लोगों द्वारा दवाएं बेची जा रही हैं। बारिश का मौसम होने के कारण इन दिनों वायरल बुखार घर घर में फैला हुआ है, जिससे मेडिकल स्टोर संचालकों व झोलाछाप डाक्टरों की चांदी है।

दुकान पर हरी, नीली, पीली रंग की हर गोली देकर अप्रशिक्षित मेडिकल स्टोर संचालक लोगों की जिंदगी के साथ अवैध कमाई के चक्कर में खिलवाड़ कर रहे हैं। बताते हैं कि स्वास्थ्य विभाग के ड्रग निरीक्षक कभी कभार दौरा करके एक जगह सभी को बुलाकर वसूली करके अपने दायित्वों की इतिश्री कर चले जाते हैं। महज जैसे एक छोटे से तिराहे पर दर्जनों झोलाछाप डाक्टर व मेडिकल स्टोर चल रहे हैं।
ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि पूरे मनकापुर क्षेत्र में इस तरह के कितने मेडिकल स्टोर व झोलाछाप डॉक्टरों की क्लीनिक संचालित हो रही है। विभागीय सूत्रों का कहना है कि भारत सरकार की लाइसेंसिंग प्रणाली में प्रत्येक मेडिकल स्टोर पर प्रशिक्षित चिकित्सक या फार्मासिस्ट का होना जरूरी है, लेकिन यह मानक मनकापुर के लिए दुर्लभ और बेमानी है। मनकापुर में फर्जी मेडिकल स्टोरों के संचालकों में प्रशासन का कोई डर नहीं दिखाई दे रहा है।
अगर समय रहते स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन नहीं चेता तो तमाम लोग आर्थिक रूप से तो शोषण के शिकार होते ही रहेंगे, बल्कि उनकी जिंदगी से भी ये खिलवाड़ करते रहेंगे। इस संबंध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ. मधु गैरोला का कहना है कि अवैध रूप से संचालित मेडिकल स्टोरों व झोलाछाप डॉक्टरों के विरूद्ध लगातार अभियान चलाकर कार्रवाई की जाती है। फिर भी यदि ऐसा है तो निश्चित रूप से बड़े पैमाने पर कार्रवाई की जाएगी।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।