बस्ती: प्रदेश सरकार की कमियों व कुरीतियों के खिलाफ सपाइयों का 'हल्ला बोल आंदोलन' - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 21 September 2020

बस्ती: प्रदेश सरकार की कमियों व कुरीतियों के खिलाफ सपाइयों का 'हल्ला बोल आंदोलन'

मोहित गुप्ता बस्ती रूधौली  

प्रदेश सरकार की कमियों व कुरीतियों के खिलाफ सपाइयों का 'हल्ला बोल आंदोलन'

 पदयात्रा व नारेबाजी करते हुए राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपा

बस्ती रुधौली: सोमवार को प्रदेश सरकार की नीतियों को गलत बताते हुए उस पर कोरोना संकट बढ़ाने, किसानों व नौजवानों को बेरोजगार करने ल, बुनकर और समाज के दूसरे कमजोर वर्गों की उपेक्षा करने, आरक्षण पर कठोर प्रहार करने, कानून व्यवस्था ध्वस्त होने, समाजवादी कार्यकर्ताओं को उत्पीड़न करने, भ्रष्टाचार व घोटालों पर अनियंत्रित होने, महिलाओं व बच्चियों को सुरक्षा न कर पाने जैसे कई आरोप लगाये।

       आंदोलन की अगुवाई कर रहे पूर्व विधायक राजेंद्र चौधरी ने कहा कि प्रदेश इन दिनों अराजकता की स्थिति बढ़ता जा रहा है, कई हजार मौत हो चुकी है। अस्पतालों में इलाज के नाम पर सिर्फ घोटाले किए जा रहे हैं। ब्लॉक अध्यक्ष अमित यादव ने कहा कि सरकार किसानों के साथ धोखा कर रही है, किसानों को फसल का लागत मूल्य नहीं मिल पा रहा, उसकी आय दोगुनी का झूठा वादा किया गया, बिजली का बिल और डीजल के दाम बढ़ाकर खेती को चौपट किया जा रहा है। हजारों किसान तंगहाली से ऊबकर आत्महत्या कर रहे हैं और तो और किसानों को विभिन्न आपदाओं में हुए फसलों के नुकसान का मुआवजा भी इस सरकार ने नहीं दिया। यदि आज किसान मर रहा है तो इसके जिम्मेदार सिर्फ और सिर्फ प्रदेश सरकार है।
     प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए राजेंद्र यादव, रामकुमार यादव, मोहम्मद शकील, सोमिल सिंह श्रीनेत आदि नेताओं ने भी अपनी बात रखी। इसके पूर्व नगर के बखिरा तिराहे से तहसील परिसर तक पैदल मार्च व नारेबाजी करते हुए सपा कार्यकर्ताओं ने प्रदेश सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ हल्ला बोल किया। बाद में  तहसील परिसर में सात प्रदेशीय वह पांच स्थानीय मांगों को लेकर राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपा। 
    दिए गए ज्ञापन में रुधौली  व वाल्टरगंज चीनी मिल से किसानों का बकाया गन्ना मूल्य भुगतान कराने, अतिवृष्टि ओलावृष्टि बाढ़ इतिहास से हुई फसलों की क्षतिपूर्ति, बढ़ाए गए बिजली दरों को कम करने, प्रदेश में किए जा रहे फर्जी एनकाउंटर पर लगाम लगाने, छात्रों को पांच महीने लॉकडाउन की फीस माफ करने व समस्त तकनीकी प्रशिक्षण संस्थानों में दलित छात्रों के निशुल्क प्रवेश की व्यवस्था बनाने, अपराध क्षेत्र में महिलाओं पर किए जा रहे अपराधों पर रोक लगाना, सरकारी सेवाओं कर्मचारियों की संविदा भर्ती प्रक्रिया पर रोक लगाने, समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को फर्जी केस में फंसाकर उत्पीड़न को बंद करने, बेरोजगार युवाओं को आजीविका भत्ते की व्यवस्था कराने, रुधौली सीएचसी पर एक्सरे मशीन की स्थापना करने, सहित तहसील क्षेत्र के प्रमुख मार्गों की मरम्मत करने की मांग की है। इस दौरान दीनानाथ चौरसिया, सीताराम यादव, रामकुमार यादव, धर्मेंद्र कुमार, मनोज कुमार यादव, सज्जाक अली, राजन यादव, अवधेश यादव, अमित कुमार कनौजिया, घनश्याम रवि वर्मा, इंद्रजीत यादव आदि मौजूद रहे।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।