बस्ती: नही थम रही पंचायत भवन और शौचालयों में गड़बड़ी, सचिव मौन - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 30 September 2020

बस्ती: नही थम रही पंचायत भवन और शौचालयों में गड़बड़ी, सचिव मौन

मोहित गुप्ता बस्ती रूधौली

नही थम रही पंचायत भवन और शौचालयों में गड़बड़ी, सचिव मौन

प्रधानों ने कहा 350 रुपये के सीमेंट भुगतान पर कैसे हो सही काम

बस्तीरुधौली। ग्राम पंचायतों में पंचायत भवन एवं सामुदायिक शौचालय के निर्माण में गुणवत्ता को सुधारने के तमाम हिदायतें चेतावनी बेअसर साबित हो रहे हैं। विभाग एवं जिलाधिकारी के लाख समझाने के बाद भी ग्राम पंचायतों में सार्वजनिक भवनों के निर्माण में धांधली एक के बाद एक सामने आ रही है, दूसरी ओर ग्राम प्रधानों का कहना है कि सरकार द्वारा निर्माण की सामग्रियों का जो मूल्य निर्धारित कर दिया जा रहा है उसमें गुणवत्तापूर्ण कार्य कराना संभव नहीं है।

मालूम हो कि वर्तमान में सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं में से एक पंचायत भवन एवं सार्वजनिक शौचालय का निर्माण जनपद के लगभग सभी ग्राम पंचायतों में चल रहा है निर्माण कार्यों में गड़बड़ी की शिकायतें लगभग सभी ग्राम पंचायतों से आ रही हैं गुणवत्ता की जांच करने के लिए मंगलवार को डीपीआरओ विनय कुमार सिंह ने रुधौली विकास खंड के डड़वा तिवारी, डड़वा पांडेय, बरवा, महुआर, रायठ सहित छह ग्राम पंचायतों में पंचायत भवनों का जायजा लिया और लगभग सभी जगहों पर कमियां पाई गई। हालांकि उन्होंने कमियों को दूर करने के निर्देश देते हुए कार्रवाई की चेतावनी तो दे दी। लेकिन क्या चेतावनी से गड़बड़ियां रुक जाएंगी? दूसरी ओर उनके जाने के बाद कुछ ग्राम प्रधानों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि पीडब्ल्यूडी के द्वारा निर्धारित किए गए मूल्य के अनुसार निर्माण कार्य में 6667 रुपए ईंट के लिए तथा 358 रुधौली प्रति बोरी के हिसाब से सीमेंट का भुगतान दिया जाना है, जबकि बाजार में गुणवत्तापूर्ण सीमेंट की कीमत 420-450 रुपये प्रति बोरी के हिसाब से है, वही उम्दा क्वालिटी ईंट की कीमत कम से कम 15500 रुपये प्रति दो हजार के हिसाब से है, ऐसे में इतने कम भुगतान पर गुणवत्तापूर्ण निर्माण के लिए सरकार कैसे दबाव बना सकती है?

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।