किसान सम्मान निधि योजना का लाभ ले रहे अपात्र को धनराशि करना होगा वापस अन्यथा भू राजस्व नियमों के तहत होगी वसूली - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 17 September 2020

किसान सम्मान निधि योजना का लाभ ले रहे अपात्र को धनराशि करना होगा वापस अन्यथा भू राजस्व नियमों के तहत होगी वसूली

राकेश सिंह गोण्डा 


किसान सम्मान निधि योजना का लाभ ले रहे अपात्र को धनराशि करना होगा वापस अन्यथा भू राजस्व नियमों के तहत होगी वसूली

गोण्डा - मुख्य विकास अधिकारी शशांक त्रिपाठी ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अन्तर्गत लाभ ले रहे अपात्रोें लाभाार्थियों से अपील की है कि वे योजनान्तर्गत प्राप्त की गई धनराशि को भारत सरकार के पोर्टल के माध्यम से वापस कर दें अन्यथा भू-राजस्व नियमों के तहत वसूली की जाएगी।
मुख्य विकास अधिकारी शशांक त्रिपाठी
सीडीओ श्री त्रिपाठी ने बताया है कि जनपद में संचालित प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के सम्बंध में भारत सरकार द्वारा जारी योजना की गाइडलाइन्स के अनुसार भूमिहीन, संस्थागत भूस्वामी, ऐसे परिवार जिनका कोई सदस्य वर्तमान, भूतपूर्व संवैधानिक पदधारक है, पूर्व अथवा वर्तमान मंत्री, राज्य मंत्री, लोक सभा एवं राज्य सभा सदस्य, विधान सभा एवं विधान परिषद सदस्य, नगर निगमों के पूर्व एवं वर्तमान नगर प्रमुख, जिला पंचायतों के पूर्व अथवा वर्तमान अध्यक्ष, केंद्र सरकार, राज्य सरकार एवं सरकार के अधीन स्वायत्तशासी संस्थाओं में सेवारत अथवा सेवा निवृत्त अधिकारी एवं कर्मचारी (चतुर्थ श्रेणी को छोड़कर) ऐसे सेवानिवृत्त कर्मी जिनकी मासिक पेंशन 10 हजार से अधिक है।

(चतुर्थ श्रेणी को छोड़कर) ऐसे व्यक्ति जिन्होंने विगत वित्तीय वर्ष में आयकर अदा किया हो, रजिस्टर्ड डॉक्टर, इंजिनियर, वकील, चार्टर्ड एकाउंटेंट, आर्किटेक्ट आदि व्यक्ति योजना के लाभ हेतु अपात्र घोषित हैं। साथ ही साथ योजना में पात्रता हेतु ऐसे परिवार जिसमें पति दृपत्नी तथा दो नाबालिग बच्चे हों, को एक यूनिट माना गया है। अतः यदि ऐसे परिवारों में त्रुटिवश एक से अधिक व्यक्तियों को योजना का लाभ मिल रहा हो तो अब तक प्राप्त हो चुकी धनराशि को नियमानुसार वापस किया जाना अनिवार्य है। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि गाइडलाइन के अनुसार जारी श्रेणियों के अंतर्गत आने वाले अपात्र व्यक्ति यदि त्रुटिवश योजना का लाभ ले रहे हैं तो वे अब तक प्राप्त हुई किश्तों की धनराशि निम्नानुसार भारत सरकार के पोर्टल भारतकोष डाॅट जीओवी डाट इन पर ऑनलाइन जमाकर उसकी एक प्रति उप कृषि निदेशक कार्यालय गोण्डा में जमा कर दें।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।