प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र से उठीं आवाज महंगाई की ऐसी स्थिति, कैसे चले गृहस्थी - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 23 October 2020

प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र से उठीं आवाज महंगाई की ऐसी स्थिति, कैसे चले गृहस्थी

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र से उठीं आवाज
 महंगाई की ऐसी स्थिति, कैसे चले गृहस्थी

 प्याज आलू टमाटर के दामों में वृद्धि

वाराणसी, 23 अक्टुबर,प्याज, आलू, लहसुन, टमाटर, एवं हरी सब्जियों के दामों में बेलगाम वृद्धि के खिलाफ सामाजिक संस्था सुबह-ए- बनारस क्लब के बैनर तले संस्था के अध्यक्ष मुकेश जायसवाल के नेतृत्व में हाथों में प्याज, टमाटर, आलू, एवं लहसुन, लेकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए विशेश्वरगंज में प्रदर्शन किया गया। उपरोक्त अवसर पर बोलते हुए संस्था के अध्यक्ष मुकेश जायसवाल ने कहा कि इन दिनों  महंगाई की आग में  पूरा देश झुलस रहा है। जीवन की दैनिक जरूरतों से लेकर  प्याज, टमाटर,  आलू, एवं हरी सब्जियां, सभी के भाव  आसमान को छू रहे हैं, एक तरफ लॉकडाउन से प्रभावित  आर्थिक हालात लोगों के लिए  परेशानी का  सबब बने हुए हैं। तो  दूसरी तरफ  महंगाई की आग में वे झुलस रहे हैं।
 प्याज की  कीमत पेट्रोल के बराबर पहुंच गई है। यह हालत तब है जबकि अभी नवरात्रि है और नवरात्रि मे अधिकांश लोग प्याज नहीं खाते हैं प्याज के साथ ही साथ आलू, टमाटर, लहसुन,एवं हरी सब्जियां के दामों में भी काफी वृद्धि हुई है। ज्ञात हो कि प्याज का दाम इस समय 70 रुपया टमाटर का दाम ₹50 आलू का दाम ₹40 लहसुन का दाम रुपया 120 प्रति किलो तक बिक रहा है। जिसके कारण आम आदमी के थाली से खाने-पीने की आवश्यक वस्तु दूर होती जा रही हैं। रसोई के सभी संसाधनों को जुटाने में परिवार का मुखिया अपने आप को असहज महसूस कर रहे हैं। गौरतलब है कि प्याज की कीमत का लाभ किसानों को ना मिलकर जमाखोरों को मिल रहा है। जो माल को डंप करके तेजी बनाए हुए हैं। आढ़तियों द्वारा डंप करके रखे गए माल बाहर ना निकलने के कारण प्याज,लहसुन,टमाटर,आलू,के दाम में लगातार बढ़ोतरी का क्रम जारी है।वही हरी सब्जियों का दाम भी आसमान को छू रही है।लोगों को अपने आय का एक बड़ा हिस्सा सब्जियों को खरीदने  पर खर्च करना पड़ रहा है। सभी वक्ताओं ने शासन प्रशासन से मांग किया कि, वह ऐसे जमाखोरों को चिन्हित करके कार्रवाई करते हुए प्याज के साथ हरी सब्जियों के दामों को नियंत्रण लाने का कार्य करें।जिससे आम जनता को राहत मिले।
कार्यक्रम में मुख्य रूप से मुकेश जायसवाल, नंदकुमार टोपी वाले, अमरेश जायसवाल, अनिल केसरी, डॉ मनोज यादव, आदि लोग शामिल थे।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।