दूध मुंहे बच्चे को बैग में रख कर चिट्ठी के साथ लावारिस छोड़ा, लिखा- थोड़े दिन पाल लो, मुंह मांगे पैसे दूंगा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 5 November 2020

दूध मुंहे बच्चे को बैग में रख कर चिट्ठी के साथ लावारिस छोड़ा, लिखा- थोड़े दिन पाल लो, मुंह मांगे पैसे दूंगा

अमेठी ब्यूरो

दूध मुंहे बच्चे को बैग में रख कर  चिट्ठी के साथ लावारिस छोड़ा, लिखा- थोड़े दिन पाल लो, मुंह मांगे पैसे दूंगा

   

 उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में बुधवार शाम एक चौंकाने वाला मामला सामने आया. यहां के त्रिलोकपुर गांव में कोई अज्ञात व्यक्ति एक बैग में अपना 5 महीने का बच्चा छोड़ गया. देर शाम पीआरवी को सूचना मिली कि एक बैग में सामान सहित कोई बच्चा छोड़ गया है. सूचना पाकर पीआरवी 2780 पर तैनात राकेश कुमार सरोज, ड्राइवर उमेश दुबे के साथ कोतवाली मुंशीगंज क्षेत्र के त्रिलोकपुर स्थित आनंद ओझा के आवास पहुंचे. पुलिसकर्मी ने बैग खोलकर देखा तो उसमें बच्चा था. साथ ही सर्दियों के कपड़े, जूता, जैकेट, साबुन, विक्स, दवाएं और 5 हजार रुपए भी रखे हुए थे. शख्स ने बैग के साथ एक खत भी छोड़ा था. इसे पढ़कर ऐसा लगता है कि बच्चे के पिता ने लिखा है. 

खत में लिखा था, ''यह मेरा बेटा है. इसे मैं आपके पास छह-सात महीने के लिए छोड़ रहा हूं. हमने आपके बारे में बहुत अच्छा सुना है. इसलिए मैं अपना बच्चा आपके पास रख रहा हूं, 5000 महीने के हिसाब से मैं आपको पैसा दूंगा. आपसे हाथ जोड़कर विनती है कि कृप्या इस बच्चे को संभाल लो. मेरी कुछ मजबूरी है. इस बच्चे की मां नहीं है और मेरी फैमिली में इसके लिए खतरा है. इसलिए छह-सात महीने तक आप अपने पास रख लीजिए, सब कुछ सही करके मैं आपसे मिलकर अपने बच्चों को ले जाऊंगा. कोई बच्चा आपके पास छोड़ कर गया यह किसी को मत बताना, नहीं तो यह बात सबको पता चल जाएगी.''

शख्स ने खत में आगे लिखा, ''मेरे लिए सही नहीं होगा. सबको यह बता दीजिएगा कि यह बच्चा आपके किसी दोस्त का है, जिसकी बीवी हॉस्पिटल में कोमा में है. तब तक आप अपने पास रखिए, मैं आपसे मिलकर भी दे सकता था. लेकिन यह बात मेरे तक रहे तभी सही है. क्योंकि मेरा एक ही बच्चा है, आपको और पैसा चाहियेगा तो बता दीजिएगा, मैं और दे दूंगा. बस बच्चे को रख लीजिए. इसकी जिम्मेदारी लेने को डरियेगा नहीं. भगवान ना करें अगर कुछ होता है तो फिर मैं आपको ब्लेम नहीं करूंगा. मुझे आप पर पूरा भरोसा है. बच्चा पंडित के घर का है.'' पीआरवी ने बच्चा मिलने की सूचना कोतवाली प्रभारी मिथिलेश सिंह को दी, जिस पर उन्होंने बच्चे को कॉलर के ही सुपुर्द करने को आदेशित किया है.


No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।