KUSHINAGAR छठ पूजा अवसर पर आमजन प्रशासन द्वारा दिये गए निर्देशों का पालन करे - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 19 November 2020

KUSHINAGAR छठ पूजा अवसर पर आमजन प्रशासन द्वारा दिये गए निर्देशों का पालन करे

इश्वर चन्द्र पटेल कुशीनगर

छठ पूजा अवसर पर आमजन प्रशासन द्वारा दिये गए निर्देशों का पालन करे



कुशीनगर     अपर जिलाधिकारी विंध्यवासिनी राय ने सभी उप जिलाधिकारी/ तहसीलदार को निर्देशित किया है कि छठ पूजा का पर्व दिनांक 20 व 21 नवम्बर को मनाया जाना है, छठ पूजा के दौरान नदी/तालाब/घाटों पर भारी मात्रा में भींड इकट्ठा होती है, जिसके कारण नदी,तालाब, घाटों पर अव्यवस्था के कारण अप्रिय घटना होने की सम्भावना बनी रहती है। उन्होंने आपदा प्रबंधन द्वारा जारी गाइडलाइंस के अनुपालन में सुरक्षित छठ पूजा के लिए तैयारियों के साथ जनपद के समस्त तहसीलों में राजस्व विभाग द्वारा नदी ,तालाब, घाट का  चिन्हिकरण किये जाने तथा सुरक्षा की दृष्टि से लाइफ जैकेट,लाइफ सेविंग रिंग, रस्सी,सर्च लाइट,मेगाफोन, की व्यवस्था किये जाने का निर्देश दिए हैं, तथा तहसीलवार खतरनाक नदी, तालाब,घाटों पर गोताखोर की व्यवस्था भी किये जाने का निर्देश दिए गए हैं। राय ने आमजन को कोरोना वायरस से वचाव हेतु 2 गज की दूरी एवं मास्क का प्रयोग किये जाने, निर्धारित मार्ग पर ही गाड़ी चलाने व निर्धारित मार्ग पर ही  पार्किंग करने, की अपेक्षा की है। उन्होंने महिलाओं/बुजुर्गों/ वच्चों के पास अपने घर का पता मो0 न0 अवश्य रखें, तथा अफवाहे न फैलाएं न उस पर विश्वास करें, बैरिकेटिंग को न पार करें और खतरनाक घाटों और गहरे पानी मे न जायें। उन्होंने छठ पूजा छेत्र में कहीं भी आतिशबाजी न करने व किसी भी प्रकार की गंदगी न फैलाने की अपील की है। उन्होंने जनपदवासियों से अपेक्षा की है कि छठ पूजा अवसर पर किसी भी प्रकार की समस्या होने पर सम्बन्धित उप जिलाधिकारी/तहसीलदार से सम्पर्क करें, व प्रशासन द्वारा दिये गए निर्देशों का पालन करे।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।