मात्र 200 लोगो के साथ मौलाना सकील अहमद ने अदा कराई अगहनी जुमे की नमाज़ - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 11 December 2020

मात्र 200 लोगो के साथ मौलाना सकील अहमद ने अदा कराई अगहनी जुमे की नमाज़

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

मात्र 200 लोगो के साथ मौलाना सकील अहमद ने अदा कराई अगहनी जुमे की नमाज़

वाराणसी । आज दि0 11/12/20 को पुरानापुल पुलकोहना स्थिति ईदगाह में सैकड़ो साल पुरानी चली आ रही अगहनी जुमे की नमाज़ इस साल कोरोना महामारी को देखते हुए जिला प्रसासन द्वारा दीगयी दिशानिर्देश अनुसार मात्र 200 लोगो के साथ मौलाना सकील अहमद ने अदा कराई । नमाज़ के बाद मौलाना साहब ने अल्लाह ताला के बारगाह में दुआ की की या अल्लाह इस देश और दुनिया से कोरोना जैसी जान लेवा बीमारी को खत्म कर दे और पूरे मुल्क में अमनो अमान का माहौल पैदा कर दे । लोगो के कारोबार में बरक्कत आता फरमा आमीन । नमाज़ के बाद पार्षद हाजी ओकास अंसारी ने बताया कि अगहनी जुमा की नमाज़ की ये परंपरा साढ़े चार सौ साल पुरानी है ये जुमा उस वक़्त इस लिए अदा की गई कि मुल्क में बेरोजगारी थी बारिस न होने के कारण किसान परेशान थे तब खुले आसमान के नीचे सारे लोग इकट्ठा हो कर अगहन के महीने में जुमे के दिन नमाज अदा किए और रो रो कर दुआ खानी हुई और मुल्क में खुशहाली आयी उसी परमपरा को बनारस के बुनकर बिरादराना तंजीम बाईसी के सरदार और बुनकर बिरादराना तंजीम बावनो के सरदार साहबान के सदारत में आज भी निभाई जा रही है । आज नमाज में पुलिस प्रसान ने पूरी फ़ोर्स के साथ ब्यवस्था संभाली जिसमें ईदगाह के अंदर प्रशासन के दिशानिर्देश अनुसार 200 लोगो को जाने की ही इज़ाज़त दी आज अगहनी जुमे की नमाज सकुसल सम्पन्न हुई । नमाज़ में शामिल हाजी मतिउल्लाह । पार्षद गुलशन अली । पार्षद हाजी ओकास अंसारी । हारून अंसारी । डॉ0 इम्तियाजुद्दीन । हाजी मोबिन । सरदार मोइनुद्दीन । अफ़रोज़ अंसारी । डॉ0 शमशाद । सरदार नासिर । मुबारक अली । हाजी छोटक सहित बुनकर बिरादराना तंजीम बाईसी के काबिना के कई सदस्य मौजूद थे । 
          

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।