वाराणसी: डीएम की नेक पहल- ठण्ड की रात में ठिठुरतों को दी राहत - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 26 December 2020

वाराणसी: डीएम की नेक पहल- ठण्ड की रात में ठिठुरतों को दी राहत

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

डीएम की नेक पहल- ठण्ड की रात में ठिठुरतों को दी राहत

गरीब व जरूरतमंदों को सर्दी से मिली राहत

डीएम ने खुद सड़क पर उतर बाँटा कम्बल

रेडक्रॉस ने किया कम्बल वितरण

वाराणसी। शुक्रवार को जिलाधिकारी श्री कौशल राज शर्मा के नेक पहल पर रेडक्रॉस सोसाइटी ने गरीबों और जरूरतमंदों को ठण्ड से बचाव के लिए कम्बल वितरित किया। विगत कुछ दिनों में अचानक बढ़ते हुए ठण्ड, शीत व गलन के प्रकोप को देखते डीएम श्री कौशल राज शर्मा ने स्वयं सर्दी की रात में सड़क पर उतर कर पैदल ही घूमघूम कर रेडक्रॉस सदस्यों के साथ कम्बल व अन्य ऊनी वस्त्र बाँटा। 300 कम्बल व अन्य ऊनी वस्त्र से भरी कम्बल वैन लेकर डीएम के साथ रेडक्रॉस सोसाइटी के सदस्यों ने गोदौलिया, दशास्वमेध, गंगा किनारे घाट आदि क्षेत्रों में रातभर सड़क किनारे व गरीब बस्तियों में जाकर सैकड़ों निर्धन, बेसहारा, रिक्शा चालक, फेरीवाले, ठेला चालकों और अन्य जरूरतमंदों को ठण्ड से बचाव हेतु कम्बल और ऊनी वस्त्र वितरीत किया। जिलाधिकारी श्री कौशल राज शर्मा ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से बढ़ते हुए ठण्ड और शीतलहरी से बचाव के लिए हर जरूरतमंदों को रेडक्रॉस से कम्बल वितरण किया जाएगा, इसके लिए रात्रि में कम्बल वैन शहर में घूमेगी । उन्होंने शहर की अन्य स्वयंसेवी संस्थाओं से भी अपील किया कि वे गरीब व जरूरतमंदों को कम्बल और ऊनी वस्त्र वितरण करें, ताकि उन्हें ठण्ड के प्रकोप से बचाया जा सके।
कम्बल वितरण कार्यक्रम में रेडक्रॉस सचिव डॉ संजय राय, विजय शाह, वेदमूर्ति शास्त्री, डॉ एस एस गांगुली, जेपी बालानी डॉ अकबर अली, डॉ अजय अग्रवाल, बिमल त्रिपाठी, शेषनाथ राय, धर्मु जायसवाल, रामगोपाल त्रिपाठी, मनोज शर्मा, पूर्णेन्दु, हिमांशु शर्मा,  नीरज देववंशी, भास्कर आदि ने सहयोग किया।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।