बलिया: प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी बहुरूपिया बनकर मांगते हैं वोट- सोनू पण्डित (प्रसपा महासचिव बांसडीह ) - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 25 December 2020

बलिया: प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी बहुरूपिया बनकर मांगते हैं वोट- सोनू पण्डित (प्रसपा महासचिव बांसडीह )

बिसौली /बलिया (माइकल भारद्वाज)-

प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी बहुरूपिया बनकर मांगते हैं वोट- सोनू पण्डित (प्रसपा महासचिव बांसडीह )

बलिया।" भगवान की सौदा कर्ता ,इंसान की कीमत क्या जाने।
 जो धान की कीमत दे ना सके,वो जान की कीमत क्या जाने"

आज 'क्रिसमस डे' के अवसर पर बांसडीह विधानसभा के प्रत्येक गांव में प्रसपा की ओर से किसानों को जागरूक करने के लिए "किसान आंदोलन" के समर्थन में एक रैली निकाली गई थी। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के बांसडीह विधानसभा महासचिव अश्वनी मिश्रा 'सोनू पंडित' ने कहा कि आज हम सभी अपने नेता आदरणीय शिवपाल सिंह यादव जी के आवाह्नन पर पूरे विधानसभा में किसानों को जागरूक करने के लिए उनके समर्थन में रैली निकाली है। श्री पंडित ने कहा कि शासन सत्ता में बैठे हुए लोग किसान के रूप में भगवान कहे जाने वाले इंसानों को भी मजदूर बना दिया है ।शायद इन्हें पता नहीं कि अगर किसान अपने आप पर उतारू हो जाए और यह सोच ले कि अब मैं उतना ही फसल उगाऊंगा जितना से कि हमारे परिवार का काम चल जाए  तो A.C में बैठे हुए लोगों को अपनी औकात समझ में आ जाएगी कि किसान क्या होता है? इन पुंजिपतियों को पता ही नहीं है। किसान मर मर कर पैदावार पैदा करता है और उसकी लागत तक भी उसे नहीं मिल पाती है ।यही कारण है कि किसान ,मजदूर आत्महत्या करने के लिए बाध्य हो रहा है। कॉन्टैक्ट फॉर्मिंग के नाम पर किसानों को केंद्र सरकार बेवकूफ बना रही है। इसी नियम कानूनों के जरिए किसानों के खेतों को कांटेक्ट फार्मिंग  का सहारा लेकर पूंजिपतियों को देना चाहती है। भारतीय जनता पार्टी निरंकुश शासन कर रही है ।उदाहरण देते हुए सोनू पंडित ने कहा कि  "
लोग कहते हैं कि बेटी को मार डालोगे तो बेटी कहां से लाओगे ।जरा सोचो, किसानों को मार डालोगे तो रोटी कहां से लाओगे।।"
जब किसान ही नहीं रहेगा तो हम सब जी कर क्या करेंगे ।इस पर सरकार की क्या मांशा है यह तो वही जानेंगे ,लेकिन इतना जरूर है कि हम सब हमेशा गलत का विरोध करते रहे हैं और करते रहेंगे और खुलकर किसानों की मदद करेंगे। इसके बावजूद यदि केंद्र सरकार नहीं मानेगी तो देश में इससे भी बड़ा आंदोलन होगा ।हर तरीके  से हम सब लोग किसानों के समर्थन में खड़े हैं और रहेंगे।

साथ ही केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए श्री पंडित ने कहा कि हमारे देश के प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी के बारे में कुछ कहना तो नहीं चाहिए लेकिन एक बात सच है कि मोदी जी बहुरूपिया है ।गरीबों ,मजदूरों मजदूरों का वोट लेने के लिए कुछ भी कर सकते हैं ।जैसे बंगाल में वोट होने वाले हैं तो अब दाढ़ी बढ़ाकर रवींद्रनाथ टैगोर जी का रूप ले रहे हैं। टीएमसी और भाजपा दोनों अब महापुरुषों पर राजनीति करने के लिए उतारू हो गये है। किसानों का आंदोलन करते हुए आज 29 दिन हो गए लेकिन सरकार पर कोई फर्क नहीं पड़ता है ।कितने किसान शहादत दे गए लेकिन इन्हें तो अपनी राजनीति चमकाने से मतलब है। कहते है कि हम तो फकीर है झोला लेकर निकल जाएंगे ,कब जब देश बेच देंगे तब।  मोदी जी आपने संबोधन में कहे थे हिंदुस्तान के सभी लोगों के खाते में 15-15 लाख रुपए जाएंगे, बाद में अमित शाह जी कहने लगे यह तो वोट लेने का एक जुमला था। फिर कृषि मंत्री कह रहे हैं नौ हजार किसानों के खाते में अट्ठारह हजार करोड़ रुपया जाएंगे ।इसको भी बाद में अमित शाह जी कह  देंगे कि यह तो जुमला था क्योंकि सरकार ही जुमलों की है।

" मर रहा है सीमा पर जवान और खेतों में किसान,
 कैसे कह दूं इस दुखी मन से कि मेरा भारत महान"

बिसौली गांव के ही एक किसान हरिहर वर्मा और मोहम्मद बबलू ने कहा कि खाद बीज लग रहा है लेकिन अच्छी कीमत में बिक्री नहीं हो रही है ग्राहक को पूछते हैं वह भी लेते नहीं। इंतजार करते हैं कि कब सरकार इसका मूल्य घटा दे। सरकार अगर किसानों की बात मान ले तो आंदोलन स्थगित हो सकता है।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।