बाबा काल भैरव का वार्षिक श्रृंगार महोत्सव शनिवार 27 फरवरी, 2021 को आयोजित किया गया - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 28 February 2021

बाबा काल भैरव का वार्षिक श्रृंगार महोत्सव शनिवार 27 फरवरी, 2021 को आयोजित किया गया

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

बाबा काल भैरव का वार्षिक श्रृंगार महोत्सव शनिवार 27 फरवरी, 2021 को आयोजित किया गया

वाराणसी, 27 फरवरी। काशी के कोतवाल श्री श्री 1008 बाबा काल भैरव का वार्षिक श्रृंगार महोत्सव शनिवार 27 फरवरी, 2021 को आयोजित किया गया। इस अवसर पर जहां बाबा की नैनाभिराम झांकी सजायी गयी। महोत्सव का शुभारंभ दोपहर 1ः00़ बजे से मंहत पंडित सुमित उपाध्याय ने दूध, दही, घृत, शहद एवं पंचमेवा से बाबा का अभिषेक किया। इसके पश्चात बाबा को सिन्दूर अर्पित कर नवीन वस्त्र एवं नया रजत मुखौटा धारण करा कर विभिन्न सुगंधित मालाओं और आभूषणों से अलकंृत कर भव्य झांकी सजायी गयी। श्रृंगार के पश्चात विभिन्न प्रकार के पकवान और मदिरा से भोग आरती की गयी।
आरती के साथ ही बाबा के श्रंृगार का दर्शन श्रद्धालुओं के लिए मंदिर का कपाट खोल दिया गया। कपाट खुलते ही बाबा के जयकारे से समूचा क्षेत्र बाबा मय हो गया। अपराह्न चार बजे चारों वेदों की ऋचाओं से बाबा की बसंत पूजा की गयी। अपराह्न से शुरू हुआ दर्शन पूजन एवं भण्डारे का क्रम देर रात तक चलता रहा। मध्यरात्रि में सवा लाख बत्तियों से बाबा की महा आरती की जायेगी। इस अवसर पर बाबा का दरबार कामिनी की पत्ती और देशी विदेशी फूलों से जहां आलोकित था वहीं मंदिर आने वाले मार्गों में आकर्षक सजावट की गयी थी। वहीं मंदिर प्रांगण में काल भैरव मंदिर के पूर्व महंत स्व॰ प्रदीपनाथ उपाध्याय जी को भी दीप जलाकर श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। कोविड-19 के नियमों का विशेष ध्यान रखते हुये इस वर्ष सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं किया जा रहा है। कोरोना से बचाव के लिए सभी को बिना मास्क लगाये प्रवेश वर्जित रहा और साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया गया। 


No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।